10 August 2009

प्रमेन्द्र भाई एक सच्ची बात सुनो

6 comments:

Udan Tashtari said...

आप परमेन्द्र भाई को सुनाना चाह रहे थे मगर हमने भी सुन ही लिया!!

mahashakti said...

आ. गिरीश जी ये सिर्फ गज़ल ही नही है, काग़ज के पूर्जो पर लिखी जीवन की सच्‍चाई है। आज बहुत दिनों बात इसे सुनने का मौका मिला, आपके इस अमूल्‍य भेंट के लिये अभार।

संगीता पुरी said...

सुन लिया .. अच्‍छा लगा !!

परमजीत बाली said...

धन्यवाद। बढिया लगा।

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' said...

aaj se ek baras pahale maine ek afasr ke moorkhataa bhare khat ko yoon hee chindee chindee kiyaa tha

Tara Chandra Gupta "MEDIA GURU" said...

jordar dhansu...............