30 December 2008

श्री राम ठाकुर दादा नहीं रहे

जबलपुर 29 दिसम्बर 2008

जबलपुर के श्रीराम ठाकुर "दादा",व्यंग्यकार लघु कथाकार श्री राम ठाकुर दादा का अल्प बीमारी के उपरांत दु:खद निधन हो गया अपनी सत्यवादिता एवं विनोद के पर्याय एवं मित्रता के निर्वहन के लिए मशहूर दादा को कई राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त हुए उनके बारे में विस्तार से जानकारी के लिए यहाँ ,या यहाँ क्लिक कीजिए स्वर्गीय दादा की अन्तिम यात्रा में परिजनों के अलावा ज्ञान रंजन सहित संस्कार धानी जबलपुर के साहित्यकार,पत्रकार,विचारक, शामिल थे।

जन्म : 28 जनवरी 1946 बारंगी ,जिला : होशंगाबाद
अवसान
: 28 दिसम्बर 2008 जिला:जबलपुर

अनवरत स्मृतियों को नम आंखों में संजोए भाव पूर्ण श्रद्धांजलियां
शोकाकुल
जबलपुर के समस्त साहित्यकार

17 December 2008

एक देश में दो विधान निश्चित टूटेगा हिन्‍दुस्थान


खबर पढ़ी (टेलीविजन देखने का समय नही मिल रहा, और कोई टी0वी चैनल देखने लायक है भी नही) की चन्‍द्र मोहन अब से मियॉं चाँद मुहम्‍मद के नाम से जाने जायेगे। ऐसा क्‍यो हुआ, इसके लिये हमारा स‍ंविधान, व्‍यवस्था और सरकार दोषी है। आखिर कब तक इस देश में धर्म के नाम पर अलग-अलग कानून होगे? कब तक हिन्‍दू प्रेमिका पाने के लिये मुस्लिम बनते रहेगे। आज देश के सभी नागरिको के लिये समान नागरिक संहिता की जरूरत है। एक देश में दो विधान निश्चित टूटेगा हिन्‍दुस्थान ।

14 December 2008

This is a story from very far Germany how a coincidental relationship grows & what are the effects of this relationship. What is the value of sacrifice in a person’s life. Please read it carefully & send me feed back.
Writer : TARUN JOSHI " NARAD"

Sweetunik Leibold. (Sweetu in short) (M)
dangira dewardi ( Subordinate of Sweetu).. Dear in short
Rodzar lell. (M)
Betunika Niedermeied (Betu in short) (F)
Mannual Figero (Manu in short) (M)
Arnold kristano (Anki in short) (M)
Susion mugen (Som in short) (F)
Daizy epanigos (dep in short) (F)
Venues
Cities : Regensburg, Falcon city,
Berlin – film studio introxen ##413 inn Golden Street & many more places some gardens, Railway terminal some taxies, cyber cafes… Etc….
Falcon – city church & house of Betunika

Once there was a boy. His name was sweetunik Leibold. Who lives in a town named Regensburg at Germany . He is very dissimilar from other persons. He makes planning for many things. He works in many fields. In each field his name is differ. So some of his best friends know about this they told him. Fast shark & save his contact in their diaries or Handies as fast shark.
Once a girl who lives near to the home of one of his friend saw the contact detail into the handy of the fast shark. So thought that it must be any girl friend of rodzar (friend of fast shark) so she just note that detail with her for teasing rodzar.
It was the 31st December 1997 sweetunik was busy in his office discussing with his subordinate Mr. dangira dewardi suddenly he got a call from that girl asking about a girl. He just not take any interest with her. After finishing the work. He enjoyed the party at his office. In the next day on 2nd of January 1998 when sweetu is looking for the calls missed by him during the day. He found the new no. of betunika this is the new no. for him so he called back on this number. During the conversation the boy remembered about the girl that he got a call from her. But the girl forgot about it so say I had not called you. So sweetu said its ok & disconnect the line. What is the reason of it nobody knows. It might be possible that mighty Jesus want to see them together so the sweetu save the name of the girl as MAD in his handy.
After a long period of 18 days on 20st January 1998 when sweetu sending the short massages to his friends suddenly by mistakenly that massage also delivered to betu also. That time the girl is at Berlin perusing her Graduation. They are only contacting by massages some days & the boy also thinking that he is chatting with a boy. Because there was some connection between boy & falcon city, in his professional life he knows a person his name is also betukan so he think that he is contacting with his friend betukan. But one day after 3 days on 23 rd Jan due to the massage of the girl the boy project thathe is contacting with a girl. He felt sorry. He called to girl that time he told that he is thinking that he is contacting with the betukan. During their chat sweetu knows that betu got a less marks than needed for success in her graduation. That time the sweetu is in the bank so unable to talk for a more time so he promised her to talk after some time, and told that he can change the mood of betu because its also from one of the quality of him that he can motivate anyone, he is full of positive attitude & they became friends. When he reached to his office he get an urgent work from his head office. so he get busy to complete that work. Suddenly he got the call from the betu, that’s the reminder call for calling to her. After some time sweetu have to go to falcon city for any work for his office it will take 20 minutes during the whole time he just chatting with the betu, that night betu get ill, even that due to body pain she is unable to sleep so the whole night sweetu co-operate with her by they chat the whole night by massages. Because if somebody is unhappy so what can anyone do ? , here is two options with us either we can make him happy or contribute in his grief so I just decided to do the second that’s why I had not slept the whole night & feel her pain my self also, rather it is another matter that I was attracted with her without seeing her.
He told that in the next morning he would have to travel to his friends marriage so he is unable to chat for more time. But thinks that girl is not feeling better so he just chat with her till early morning. Than he takes the train for the city of his friends city, during the marriage of his friend. They just chat more & more knows about each other. In between the sweetu just told to betu that I think that I am loving you.
Please concentrate on words. That how sweetu just proposed her, he is very shy person so he hadn’t tell that I love you. He said I think that I am loving you. She also agreed with these words. Then after some days when sweetu returned from his friends marriage. He caught by typhoid. & taking the rest. But he already promised with sweetu to meet her on 3rd Feb 1998 , so he travelled to Berlin 250 kms far from his city. They meet their they visit to film studion introxen the watched the movie there the movie is very interesting but they are only looking to each other. But I want to tell you here that they are from the towns which are not so far but they are meeting in a city which is very far from that place. One more point is very important for all of you to know that both the sweetu & Betu are the students of Saint Phillips United Christians School at Falcon city in the year 1994 but that time they are unknown for each other. The boy is looking for the girl. That when she come. She is also thinking that who is that but when she step down from the bus the boy identified her. what is this ? This is the love that they identify each other. All the time betu was saying that I had never think that I would fall in love with the boy from Falcon city or Regensburg. That time she was very angry on sweetu because he was ill & visiting to the city of the Betu, then the boy went to his friends house at Berlin they take wine as celebration because the boy has got an contract also with a company to write some slogans for their advertisements. Then he came back to Regensburg but god know that how she get the information. She is very unhappy with this matter. After this day sweetu take the promise for not having wine. On next Sunday at 10th Feb 1998 betu planned to visit falcon city. Sweetu just visit to berlin again to travel with her. It’s a great experience for both of them. They just enjoyed the whole visit. Sweetu takes a lot of chocolates with him for betu. But betu is diabetic so she can not eat the chocolates so the all chocolates is haved by sweetu & given to some other persons who are travelling with them. After this sweetu hadn’t had the chocolate till now.
After this tour sweetu visit to house of betu. They used to meet at her home. Sweetu visit to her home on valentine day. They celebrate the day on their own way.
After some days betu had to visit to Berlin again. In this visit sweetu was also visiting with her. They traveled many times together between Berlin & Falcon city. They want to marry each other. But they were very loyal with their families, they believe in philosophy that nobody can make a house by dividing the two houses. Any family couldn’t be happy by making many families unhappy so they made distance between them. It’s very hard for them to forget but they were trying to be habitual for the same. This incident was happened on 20th July 1998
It’s called sacrifice.
But suddenly after some time on 11th December 1998. Sweetu was travelling towards the Edward institute of drama. A great seminar was going on there so he visited the place to listen the views of the artists & to watch the drama. At the entrance he saw betu there. He was very angry on her because once he called to her home she picked up the phone & disconnect the call so sweetu want to ignore her. but he was fail to do the same. He asked her why you disconnect the call ? betu replied that I hadn’t disconnected the call. You did the same. At last he understand that it was happened by the failure of network. Then they both were trying to behave like the normal person. That there was nothing happened between them but both are unable to do the same.
It called Love.
TARUN JOSHI " NARAD" ( Writer & Poet)
tdjoshi_narad@yahoo.co.in
9829908393, 9887560989





-

09 December 2008

कांग्रेस ने नहीं हराया भाजपा को राजस्थान मैं............

बङे बङे विश्लेषण पढे राजस्थान मैं भाजपा के हारने के बाद...आतंकवाद के मुद्दे की अप्रासंगिकता को इसका कारण बताया जा रहा हैं...अच्छा है कांग्रेस भी इस मुगालते मैं रहे कि हमने भाजपा के कुशासन से जनता को मुक्ति दिलाई जनता ने इसे नकार दिया....पर कारण कुछ और हैं...दो ऐसे बङे मुद्दे थे जिनको यदि भाजपा के नेताओं ने पकङा होता तो आज भाजपा की 78 की जगह 120 सीटें होती...
पहला तो यदि भाजपा ने गुर्जरों के रूप मैं अपना वोट बैंक हमेशा हमेशा के लिए खो दिया...आरक्षण मिलता न मिलता पर यदि कहीं गुर्जर इस मुद्दे पर कहीं पार्टी नेताओं की सहानुभूति भी महसूस करते तो शायद स्थिति इतनी बुरी नहीं होती...पर आंदोलन के दौरान राज्य के नेताओं द्वारा टीवी स्क्रीन पर गुर्जर जाति को सरासर डकैत घोषित करना उन्हे नागवार गुजरा और जिस तरह आंदोलन का दमन किया गया और हत्यायें की गई तो पूरे समाज ने निर्विवाद रूप से भाजपा को उसका प्रतिफल देने मैं कसर नहीं छोङी....मीडिया के लोग भी एसी कमरों मैं बैठकर रिपोर्टें बनाते हैं इसलिए विश्लेषण मैं इस कारण को ज्यादा तवज्जो नहीं दी गई है...गुर्जर प्रत्याशी इतने जीतकर नहीं आये क्यों कि अधिकतर गुर्जर बहुल सीटें आरक्षित हैं और वे अपनी मर्जी के उम्मीदवार को वोट नहीं देने के लिए अभिशप्त हैं....खैर कुल मिलाकर इन्होंने अपना बदला लिया और ये अब आगे आने वाले चुनावों मैं इसी तरह परिलक्षित होगा ......शायद तब तक इन एयर कंडीशंड पोलिटिक्स करने वाले नेताओं को अक्कल आये....
दूसरा जिस तरह से वसुंधरा राजे ने गुर्जर आंदोलन को सलटाया था उससे भी ठीक तरह से अबकि बार टिकिटों के बटवारे मैं भाजपा संगठन को सलटाया .....टिकिटों के बटवारे से ठीक पहले जिस तरह सरकार ने कर्मचारियों को खुश किया हुआ था...और जिस तरह के विकास कार्य करवाये थे तो यूं लगता ही नहीं था कि कि सरकार नहीं आने वाली...कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि आज के दिन मैं राजस्थान के छोटे से छोटे गांव की सङके दिल्ली की सङकों को भी मात करती है....पर टिकिट के बटवारे का आधार मात्र वसुंधरा राजे मैं निष्ठा को देखा गया...संभवतया इनका अतिआत्मविश्वास इन्हें इस हद तक ले गया कि किसी भी गधे घोङे को खङा करेंगे वो जीत जायेगा...पार्टी ...राष्ट्रवादी विचार मैं आस्था सब गौण हो गई....चुनाव से पहले की मेरी पोस्ट मैं इसके बारे मैं मैने लिखा था
नीचे 14 नवंबर को छपी मेरी पोस्ट पर मैने कुछ सीटों के कयास लगाये थे जिनका परिणाम साथ मैं दिया गया है
1. नीम का थाना सीट पर श्री प्रेम सिंह बाजोर कि जीत निश्चित करने के लिए बहां के लोकप्रिय युवा नेता धर्मपाल गुर्जर को पास मैं खेतङी से टिकिट दिलाया गया(प्रेंम सिंह पार्टी मैं अच्छा चंदा देते हैं और सांसद के मित्र हैं). परिणाम-गुर्जर बहुल नीम का थाना के गुर्जर नाराज और खेतङी के पूर्व विधायक निर्दलीय मैंदान मैं जिससे दोनों ही सोटों पर संघर्ष की स्थिति जो टाली जा सकती थी और बहुत पक्की जीत खटाई मैं
परिणाम---प्रेम सिंह बाजौर(सीकर के सांसद के मित्र) नीम का थाना से 22000 वोटों से हारे धरमपाल 11 हजार वोटों से यदि धर्म पाल को नीम का थाना से टिकिट मिलती तो ये परिणाम निश्चित रूप से उल्टा होता...
2. दांता रामगढ मैं मजबूत आशा पुजारी को जब टिकिट नहीं देकर श्रीमति कंबर को टिकिट मिला तो प्रतिद्वंदी ने लड्डू बांटे क्यों कि इससे जीत निश्चित हो गई….
परिणाम--- दांता रामगढ से आशा कंबर(पूर्व मुख्यमंत्री भैंरो सिंह शेखावत के छोटे भाई की पत्नि) तीसरे स्थान पर रही
3. फतेहपुर सीट पर सांसद के छोटे भाई श्री नंद किशोर महरिया जिनकी पिछली बार जमानत जब्त हुई थी उम्मीदवार हैं जो निस्चित रूप से इतिहास दोहरायेंगे…..
परिणाम---फतेह पुर से नंद किशोर महरिया8000 वोटों से हारे
4. लक्ष्मण गढ सीट पर भाजपा के जिले के कद्दावर औऱ समर्पित नेता व वर्तमान भाजपा महांमंत्री श्री हरिराम रणवा की जगह की जगह एकदम अनजान व्यक्ति मदन सेवदा को टिकिट दी गई(सांसद सुभाष महरिया के निजी परिचित कार्यकर्ताओं के लिए अंजान)..श्री हरिराम को टिकिट न मिले इसके लिए सांसद महोदय ने पूरी ताकत झौंक दी औऱर इस जीती हुई सीट की हार पर मौहर लगा दी हैं.
परिणाम---मदन सेवदा चौथे स्थान पर रहै....जमानत जब्त
कुल मिलाकर आतंकवाद के मुद्दे पर राष्ट्रवाद का जैसा जूनून भाजपा कार्यकर्ताओं मैं चढना चाहियें था वो नहीं चढ पाया और कार्यकर्ताओं ने चमचों के लिए काम करने के लिऐ अपनी असहमति दे दी....कुल मिलाकर धुर भाजपाइयों मै सरकार का न बनना कोई दुःख का विषय नहीं है...क्यों कि वो जानते हैं कि उन्हें कांग्रेस ने नहीं हराया है....

एक ताऊ यहाँ भी जीता

भैया
कहो दादा
जीत गए
हओ जीत गए
अपने गुड्डू के लानें
"सब हो जाएगा दादू अब निसफिकर रैना "
"काय, गुड्डू का बड़ा भाई भी मेई आऊं और मां भी बाप भी तुम चिंता नै करना "
###############################################
भैया , जा पंच बरसी सुई जीत लई....?
हओ,दादा
अपने गुड्डू को
अरे दादा, तुम काय चिंता कर रए हो, जा बार मैं मंत्री बन गओ तो गुड्डू
समझो.....?
"बूडा गोपाल हतप्रभ किंतु आशा भरी निगाहों से बांके लाल को देख रहा था
###############################################
गुड्डू चुनावी झंडे बैनर ढोता, खम्बों पे लगाता , बांके भैया का परम सेवक पूरा दिन रात एक करता तीसरी बार भी यही सब कुछ करने जा रहा था कि सियासी जंग में घायल हो गया टांगें काटनी पड़ी . एक अपाहिज जिंदगी जो हर पल बांके की ओर आशा भरी नज़र से अपलक शून्य में तांक रहा था . बूडे बाप आंखों में अब उसे अपाहिज देखने की भी शक्ति न थी . फ़िर भी घसिटता हुआ बूदी बाखर की ओर चल पड़ा उसे पता जो चला था कि बांके भैया आए हैं .
लंबे इंतज़ार के बाद भईया जी के दर्शन पाकर आशा भरी निगाहों से उसे निहारता कि भैया जी ने कहा "दाऊ गुड्डू की मुझे चिंता अपन अपराधियों को सजा दिलवाएंगे जेल भेज देंगे अब तो हम मंत्री हो गए न "
सफ़ेद कार में सट से दाखिल भईया जी रवाना हुए . धूल का गुबार उडाता काफिला निकल पडा . दाऊ को अब कुछ नहीं दिख रहा था , दूर तलक

विजेता के लिए

तुम
जो चुने गए हो
गिने चुने लोगों में
नंबर एक पर
माँ अधिकारों नहीं कर्तव्यों की
पोटली दी है हाथों में
माँ जो इतिहास लिखोगे
माँ को यकीन है
पैयां पैंयाँ चलता हमारा यकीन तुम्हारे पीछे पीछे
सच
माँ ही एक मात्र वज़ह हो
कि विजेता हो !
पहली बार विश्वाश जागा है
जो कच्चे सूट का धागा है
हमको यकीन है माँ की दी हुई पोटली पर
जो तुमनें साथ रखी

07 December 2008

तुम अनचेते चेतोगे कब समझ स्वयं की देखोगे कब

तुम अनचेते चेतोगे कब
समझ स्वयं की देखोगे कब
जागो उठो सवेरा समझो
देखो एक सलोनी छाजन बुनालो
बेल अंकुरित सेम की देखो
खोज रही हैं सहज सहारा .!
आज सोच लो सोचोगे कब
सुनो आज बस सुर इक गाना
वंदे मातरम गीत सुहाना
भारत में भारत ही होगा
मत विचार क़र्ज़ के लाओ

02 December 2008

सुनो मीडिया वालो हिम्मत है तो इमरान खान वाला विज्ञापन दिखाना बंद कर दो

भारत के वीर सपूतों को आखिरी-अभिवादन के साथ मित्रो भारत को पाकिस्तान के साथ कठोर बयान जारी करने के अलावा इन बिन्दुओं पर भी विचार करना है हमें
# पाकिस्तान के साथ सांस्कृतिक/साहित्यिक/आर्थिक संबंधों पर तुरंत ही समाप्त कर दी जाएँ
# स्टार प्लस सोनी जी टी वी इस देश के कलाकारों को लेकर बनने वाले रियलिटी शो से उन कलाकारों को बिदा कर देना चाहिए
# इमरान खान जैसे क्रिकेटर'स के विज्ञापन दिखाना बंद किया जाए
भारत सरकार के नए विदेश मंत्री प्रणव मुखर्जी का ताज़ा बयान स्पष्ट करता है कि देश की अस्मिता को अब चुनौती देना आसान कदापि नहीं है। सही साधा सटीक इरादा ज़ाहिर किया है सरकार नें इस मसले पर सभी की एक धारणा एक संकल्प होना चाहिए ।
ताकि कड़ाई जारी रहे. आतंक और आतंकी सपोलों को विश्व के मानचित्र से समाप्त कराने के लिए सबसे अहम् बात ये होगी कि -

" नकारात्मक विचार और विचार धाराएँ सख्ती से समाप्त किए जाएँ "
भारत ही विश्व को ज़रूरत है सर्वत्र शान्ति की ताकि उत्कृष्टता के साथ मानवीय विकास के परिणाम लाए जा सकें . यहाँ स्पष्ट करदेना चाहता हूँ की सनातन व्यवस्था में सर्वे जना: सुखाना भवन्तु का संदेश सदियों से है.... सभी धर्मों का आधार-भूत संदेश भी यही ।

01 December 2008

आतंक की सरपस्‍ती

भारत आतंकवाद की विभिषिका को आज से नही झेल रहा है किन्‍तु आज तक हमारी सरकारें इस समाज नाशक विष को समाप्‍त नही कर पाये है। मुम्‍बई में हुये आतंकी हमले में कई भारतीय सैनिक और नागरिक शहीद हुये। इन प्राणों की छति को हमारी सरकार सिर्फ मुवावजों से तोलना जानती है, सिर्फ मुवावजे से किसी प्राणों की कीमत चुकाई जा सकती है, सरकार की सोच तो यही लगती है। हर बार आतंकवाद के युद्ध में जनता ही पीसी जाती है। मंत्रियों और मुख्‍यमंत्री के इस्‍तीफे के बाद क्‍या अब भारत पर हमले नही होगे ?

भारत की अस्मिता को आज विश्‍व पटल पर ललकारा जा रहा है किन्‍तु भारतीय सरकार मूक प्रदर्शन कर रही है। जबकि नरिमन हाउस पर हुये हमले को इजराईल अपने स्वयं पर हुआ हमला मान रहा है और नरीमन हाउस में मारे गये लोगो को इजराईल में मारे गये लोगो के भातिं मुवावजा और आतंकियो से बदला लेने की बात कहीं किन्‍तु भारत सरकार तो जैसे भाँग पी कर बैठी है। उसे अपने नागरिको की कोई चिन्‍ता ही नही है। आतंक से लड़ने के जज्‍बे की जरूरत है तो भारतीय जवानों मे तो है किन्‍तु भारत सरकार में नही। आतंक की जड़ मुख्‍य रूप से जिम्‍मेदार पडौसी देश पाकिस्‍तान है हर दिन हजारों की संख्‍या में घुसपैठियें आ रहे है किन्‍तु हमारी सरकार इन्‍हे अपना वोट बैंक मान रही है। आज यही वोट बैक मुम्‍बई जैसे हालात हमारे सामने ला रहे है।

30 November 2008

देश की आतंरिक सुरक्षा के सूत्र


1. भारत में कोई भी व्यक्ति या समुदाय किसी भी स्थिति में जाति, धर्म,भाषा,क्षेत्र के आधार पर बात करे उसका बहिष्कार कीजिए ।
2. लच्छेदार बातों से गुमराह न हों ।
3. कानूनों को जेबी घड़ी बनाके चलने वालों को सबक सिखाएं ख़ुद भी भारत के संविधान का सम्मान करें ।
4. थोथे आत्म प्रचारकों से बचिए ।
5. जो आदर्श नहीं हैं उनका महिमा मंडन तुंरत बंद हो जो भी समुदाय व्यक्ति ऐसा करे उसे सम्मान न दीजिए चाहे वो पिता ही क्यों न हो।
6. ईमानदार लोक सेवकों का सम्मान करें ।उनको हताश न होनें दें
7. भारतीयता को भारतीय नज़रिए से समझें न की विदेशी विचार धाराओं के नज़रिए से
8. अंधाधुंध बेलगाम वाकविलास बंद करें
9. नकारात्मक ऊर्जा उत्पादन न होनें दें ।
10. देश का खाएं तो देश के वफादार बनें ।
11. किसी भी दशा में हुई एक मौत को सब पर हमला मानें ।
12. देश की आतंरिक बाह्य सुरक्षा को अनावश्यक बहस का मसला न बनाएं प्रेस मीडिया आत्म नियंत्रण रखें ।
13. केन्द्र/राज्य सरकारें आतंक वाद पे लगाम कसने देश में व् देश के बाहर सख्ती बरतें ।
14: वंदे मातरम कहिये

29 November 2008

मेरे देश को खिलौना मत बनाओ

तुम जो व्यवस्था पे हावी होकर मेरे देश को बिगाड़ने बरबाद करने पे तुले होमित्र इस देश को खिलौना मत बनाओ खेलो मत यहाँ खून की होलियाँ मेरे मुल्क की सियासी तासीर को मत बिगाड़ो आदमी हाड मांस से बना है , उसे सिर्फ़ वोट समझ के मरने मत छोडो , उसकी कराह को सत्ता तक जाने वाली पगडंडी से मत जोडो
मित्र ये देश तुम्हारी वजह से नहीं मज़दूरों,सिपाहियों,किसानों,युवाओं का देश है देश जो मुंबई है जिसे कई बार तुम "आमची मुंबई"कह कर देश को दुत्कारतें हो । तुम सभी रुको देखो मेरा देश तुम्हारा नहीं उन वीर बांकुरों का कृतज्ञ है जो मुंबई को बचाने शहीद हुए । तुमने कहा था न कि यह तुम्हारी मुंबई है ....मुर्खता पूर्ण विचार था जिसे सच मान रहे थे सच कहूं ये मुंबई,ही नही समूचा देश समूचे देश का है । एक आम आदमी - क्या सोचता है शहीदों तुम्हें आतंकियों की गोली ने नहीं मारा , । सच के करीब जा रहा है मेरा देश मित्र सुनो उनकी बोलती आंखों की आवाज़ को ,

जियो हजारों साल, साल के दिन हो पचास हजार

आज महाशक्ति के वरिष्‍ठ सदस्‍य और हिन्‍दी चिट्ठाकारी के नामी चिट्ठकार श्री गिरीश बिल्‍लोरे '' मुकुल'' जी का जन्‍म दिवस है। गिरीश जी महाशक्ति समूह ब्‍लाग के स्‍थापना के समय से जुड़े हुये है और अपना आशीष और मार्ग दर्शन हम सभी को निरन्‍तर प्रदान करते रहते है। जन्‍मदिवस पर हम सभी लोग यही कामना करते है कि वे हमेशा इसी प्रकार अपना स्‍नेह हम पर बनाये रखे। महाशक्ति समूह उन्‍हे उनके 45 जन्‍म दिवस पर बधाई देते है और कामना करते है कि जियो हजारों साल, साल के दिन हो पचास हजार

27 November 2008

शर्म किसे आनी चाहिये.........

तलाशने गया था वह
अपनों के कातिलों को
कातिल पकड़ा गया
तो कोई
अपना ही निकला
फिर मारा गया वह
अपना कर्तव्य करते हुए,
अब तो शर्म
करो!
मेरी कल की पोस्ट पर आचार्य द्विवेदी जी की उपरोक्त टिप्पणी का जवाब मैंने प्रकाशित किया है

आदरणीय द्विवेदी जी

धन्यवाद

मेरी पोस्ट मीडिया द्वारा आतंकवाद को धर्म के नाम पर महिमांमंडित जिस तरह से
मीडिया ने किया है ..इस बात पर है..हिंदु आतंकवाद...मुस्लिम आतंकवाद....इस एपीसोड
ने आतंकवाद के खिलाफ लङाई को कमजोर किया है.....देखा जाये तो ये किसी देशद्रोह से
कम नहीं.....सिर्फ और सिर्फ हिंदु को बदनाम करने की जिद मैं वे लोग भूल गये कब वे
देश मैं फैले आतंकवाद का समर्थन करने लगे.....आप के विचार से क्या किया है ताज पर
हमले करके इन आतंकवादियों ने....साध्वी के हमले का बदला ही तो लिया है
....अल्पसंख्यकों पर हमलों का बदला ही तो लिया है(ये भी उन्होने चैनल वालों को फोन
करके ही बताया है...क्यों कि वे ही इन मजलूमों की आवाज को आप जैसे बुद्धिजीवियों तक
पहुंचा सकें ....जो गला फाङ फाङ कर फिर ये बता सकें कि देखों मैं तो एक धर्म पर
विश्वास न करने वाला मिस्टैकनली बोर्न हिंदु हूं....और देखो ये लोग जो कर रहे हैं
बिचारे इनके पास करने के लिए औऱ कुछ नहीं बल्कि इन्होने तो ये सब करना ही था
)

वैसे हो सकता है आपका शर्म करने का क्राईटैरिया कुछ अलग हो......मुझे तो तब भी
शर्म आ रही थी जब साध्वी को ...हिंदु को ...बदनाम करने के चक्कर मैं मीडिया बार बार
बिना साबित हुई चीजों को बार बार दिखा रहा था औऱ ये साबित करने मैं लगा था कि
आतंकवाद सिर्फ आतंकवाद नहीं होता ...ये हिंदु होता है और मुसलमान भी होता
है.......इसलिए यदि कोई आतंकवादी घटना हो तब सोचे कि किसने की और फिर ये निश्चित
करें कि क्या करना है....
मुझे तो आज भी उतना ही दुख है ..गुस्सा है...आक्रोश है......और
इस सब के लिए कुछ करने की जबर्दस्त इच्छा है....बिना ये सोचे की वे हमलावर हिंदु थे
या मुसलमान.....वे सिर्फ आतंकवादी नहीं हैं बल्कि देश के दुश्मन हैं......मेरे
दुश्मन है...भारत माता के दुश्मन हैं(एनी आब्जेक्शन)

....ये बिना सोचे समझे ..विना पूरी पोस्ट पढे....बिना उसका सार समझे आपको शर्म
आनी चाहिये या मुझे सोचने का विषय है...श्री हेमंत करकरे की शहादत के बारे मैं शायद
आपसे कुछ ज्यादा ही गंभीर हूं मैं.....मेरी पोस्ट की अंतिम पंक्तियों मैं उनकी
शहादत को नमन किया गया हैं........
प्रिय मित्रो,
सादर नमस्कार,
मैं तरुण जोशी नारद पुनः आप सभी की सेवा मैं उपस्थित हूँ, मित्रों मैं अपने समूह की एक web site बनाकर समर्पित करना चाहता हूँ. कृपया कर सभी मित्र गण अपने बारे में सुचनाये मुझे भिजवाने की कृपा करे,मेरा e mail id है ceo-operations@in.com , सभी पाठक भी अपने फीड बैक भेजे.
तरुण जोशी " नारद"

भला हो डैक्कन मुजाहिदीन का ....मेरा नाम नहीं लिया.....

बंबई मैं आतंकी हमला फिर हुआ आज तक का सर्वाधिक भीषण हमला...और ये पूरे गुस्से मैं किया गया खूब बम फोङे गये और दबाके खून बहाया गया....बाकायदा चैनलों को नाम भेजकर नाम बताया गया....अब आप सोचेंगे कि क्या कारण रहा होगा कि वे लोग इतने गुस्से मैं थे...अरे भई सीधी सी बात है..खरचा वो करें और ए टी एस फैमस दूसरों को कर रहा है ..वो भी फोकट मैं.
गुस्सें गुस्से मैं उन्होने उस काचरे के बीज को भी निपटा दिया हेमंत करकरे साहब को ...कि इसी शख्स का किया धरा है ये सब.
भला हो डैक्कन मुजाहिदीन का कि उन्होने बजरंग दल या अभिनव भारत का या विहिप का नाम नहीं लिया नहीं तो ये हमारे बुद्धु बक्से वाले भौंपु अब तक ये आरती सुना सुना कर कानों को फोङ डालते और सुबह के अखबार मैं बम विस्फोट की जगह सुर्खियों मैं हिंदुवादी ताकतों पर प्रतिबंध की खबरें मुख पृष्ठ की शोभा बढा रही होती.

हेंमंत करकरे आतंकवादियों से लङते हुए शहीद हुए मेरा उनकों अन्य पुलिस वालों को और जितने भी लोग इस देशद्रोही आतंकी कार्यवाही मैं मारे गये उनको सबको शत् शतम नमन

20 November 2008

अम्‍बूमंणि रामदौस और उनकी विषय वस्‍तु

आज खबर पढ़ रहा था तो पढ़ने में आया कि कोई हालीवुड स्टार ह्यूं जैकमैन 2008 के सबसे कामोत्‍तेजक अर्थात Sexy पुरुष चुने गए है। भारतीय के लिये शर्म की बात यह की भारत का को नंग धडग आदमी इस दौड़ में शामिल नही हो पाया। जॉन अब्राहम, सलमान, हासमी पता नही कितने कपड़ा उतारू एक्‍टरों की मेहनत पर बट्टा लग गया। ये भारतीय एक्‍टर कितनी मेहनत करते है कमोत्तेजक कहलाने में किन्‍तु हो गया ढ़ाक के तीन पात, देश की बात होने पर सिर्फ इन्‍ही के चर्चे होते है किन्‍तु जहॉं विदेश की बात आती है, दुनिया में इनका नामो निशान नही होता है, बिल्‍कुल क्रिकेट खिलाडियों की तरह भारत में जो खेलने आता है उसे पटक के हरा देते है, किन्‍तु जब विदेश दौरे में हार जाते है तो कहते है कि बेईमानी कर के जीत लिये, खिसियानी बिल्‍ली खम्‍भा नोचे, ऐसे है भारतीय एक्‍टर और भारतीय क्रिकेट टीम।

आज कल तो सेक्‍स और सेक्‍सी दोनो ने समाज में बहुत गंदा वातावरण फैला दिया है। इसी में रामदौस भी अड़ गये है कि अब मर्द की शादी मर्द से करा के ही दम लेगे, चाहे मनमोहन साहब कितने खफ़ा क्‍यो न हो ? मनमोहन साहब भी करे तो करे क्‍या चार दिन के मेहमान जो ठहरे पता नही अगली बार कुर्सी मिले भी कि न मिले, गे मामले में उनकी रूचि देख कर लगता है कि शायद कही साहब अपने लिये नये पार्टनर तो नही खोज रहे है, अब पता चला कि Sexy Man ऐसे लोगो के लिये चुना जाता है अब तो उन्‍हे सबसे कमोत्तजक पुरूष ह्यूं जैकमैन पंसद आ ही जायेगे सूत्रों से पता चला है कि उन्‍हे पीएम इन वेटिंग से जितना खतरा नही है उससे ज्‍यादा राहुल बाबा से है। चुनाव का समय है सुनाई दे रहा था कि राहुल बाबा को 84 के सिक्ख दंगो का खेद है, मुस्लिम इन्दिरा दादी ने सिक्‍खो पर दंड़ा करने में कसर नही छोड़ी थी अब ईसाई पुत्र राहुल हिन्‍दुओं पर दंड़ा किये पड़े है। चुनाव आ रहा है तो राजनीति खेली ही जायेगी, वो चाहे अच्‍छी हो या गंदी राजनीति तो राजनीति होती है, आज कल केन्‍द्रीय खाजने में कमी की खबर आ रही है, जॉच करने में पता चला कि कुछ मनमोहन साहब मैडम के आदेश पर अमेरिका के गरीब में बॉट आये और जो कुछ बचा वो मुस्लिम अनुदान आयोग में चला गया, मुस्लिम छात्रों को वजीफा।

खैर बहुत बेबात की बात हो गई, पर रामदौस वाली बात शतप्रतिशत सही है, तभी वे समलैंगिक (gay) सम्बनधों के पीछे पड़ा है, पहले से ही यह आदमी बद्दिमाग लग रहा था किन्‍तु आज कल चुनाव में हार के डर पता नही क्‍या क्‍या कर रहे है। कुछ लोगो का कहना है कि इसमें गलत क्‍या है तो मेरा कहना है कि हर प्रश्न का उत्‍तर नही होता है। अब भाई आका वही है तो जो करे सर आखो में, अब वो मर्द को दर्द देना चाहते है तो हम क्‍या कर सकते है, हमारी Constituency से भी नही है कि हम उन्हे उनके कृत्‍य से रोकने के लिये वोट न देने की घमकी दे सकते है। अगर वे हमारी Constituency से होते भी तो कोई फर्क नही पड़ता, वे इतना सब पड़ने के बाद स्‍यवं जान जाते कि बंदा हमको तो वोट नही ही देगा।

खैर शेष फिर .................

हिन्दु आतंकवादी: नेता, चर्च और मिडीया का घालमेल

हिन्दु आतंकवादी के नाम पर आज हिन्दुस्तान जिस तरह हिन्दु और हिन्दु संत को बदनाम किया जा रहा है इसके पिछे चर्च का खतरनाक साजिश पर ध्यान जाता हैं। इसमें नेता, चर्च और मिडीया का घालमेल अब खुलकर नजर आने लगा है। हमें अब समझ जाना चाहिये कि चर्च किस तरह से हिन्दु को बदनाम करने का साजिश रच रहा है इसमें चर्च के पैसा से चल रहे न्यूज चैनल का भी पुरा सहयोग मिला है। हाल के कुछ दिनें के घटना पर अगर ध्यान दे तो ये खतरनाक साजिश समझ में आता है। सबसे पहले संत श्री आशाराम बापू के उपर लगाऎ गये आरोप पर ध्यान देना चाहिये।

संत श्री आशाराम बापू के स्कूल में पढ़ रहें स्कूल में दो छात्र स्कूल से भाग कर घुमने निकलते हैं और उनके साथ हादसा हो जाता है इस बात को मिडीया ने जिस जोर शोर से उठाया जैसे छात्र का हत्या खुद संत श्री आशाराम बापू ने किया है। मिडीया के द्वारा संत श्री आशाराम बापू के बारे में नित्य झुठा प्रचार किया जाने लगा। उनके बेटा के बारे में भी आग उगला जाने लगा। इस कांड का जाँच खुद C.B.I. ने किया लेकिन जल्द दुध का दुध और पानी का पानी निकल कर आ गया और संत श्री आशाराम बापू जी फिर से सस्मान अपने धार्मिक कार्य के द्वारा समाज सेवा का कार्य सुरु किया। और किसी मिडीया चैनल वालों ने आशाराम बापू के बारें किये गये झूठी, मंगढ़त कुप्रचारा और जनता को गुमराह करने की गलती के बारें में माफी भी नही माँगा। हम सभी को पता हिन्दुस्तान में जितने भी संत और साधु है उनमें से लगभग सभी का अपना अनाथालय और स्कूल चलता है तथा विभीन्न तरह से ये समाज सेवा के द्वारा गरीब एंवम उपेक्षीत जनता के सेवा करते हैं। ये बाते चर्च को खटकता है क्यों कि साधु सन्यासीयों के द्वारा चलाये जा रहे स्कूल, अनाथालय सेवा कार्य चर्च के धर्मान्तंरण कार्य में हमेशा से बाधा बनतें हैं वैसे संत श्री आशाराम बापू के शिष्य द्वारा झारखण्ड में चर्च धर्मान्तरण का जोरदार विरोध किया गया था। जो संत श्री आशाराम बापू को चर्च का दुश्मन बना दिया जिसका नतीजा सभी के सामने है उन्के अपने देश हिन्दुस्तान में ही जलिल किया गया। चर्च के द्वारा चलाये जा रहे स्कूल भी धार्मान्तरण का एक माध्यम है। जितनें भी चर्च के स्कूल हैं वहाँ खुले आम हिन्दु देवी - देवता का मजाक उडा़या जाता है और क्रिश्चीचीनि धर्म मनने को कहा जाता है। चर्च के द्वारा चलाये जा रहे अनाथालय का भी यही हाल है वहा जो भी अनाथ बच्चा जाता है उसके गले सबसे पहले क्रास लटकाया जाता है उसके बाद मिशनरी बाले अनाथालय के अन्दर लेकर जाते है। चर्च सिर्फ मिडीया के द्वारा ही साधु - संतो पर आक्रमण नही करवा रहा है चर्च के कार्य में जो भी रोडा अटकाता है ये उनका हत्या करने भी गुरेज नही करतें हैं इस काम में वामपंथी भी उनका साथ देते हैं केरल और कंधमाल में संत लक्ष्मणानन्द सरस्वती की हत्या जिस तरह से हुइ सभी को पता है।

हाल के घटना पर अगर नजर डाले तो कुछ बातें खुल कर सामने आ जायेगा कि किस तरह चर्च के पैसा से चलने बाला मिडीया चैनल इस देश के गरिमा को नुकसान पहुचा रहा है। मालेगांव धमाका में जिस तरह से एक के बाद एक साधु संतो के उपर में आरोप लगाया जा रहा है हम देख रहें है। हमें इस मामले में थोडा और गहराई से सोचना होगा आखिर मिडीया वाले के द्वारा किस तरह से गंदा खेल खेला जा रहा हैं। मालेगांव के पहले और बाद में भी हिन्दुस्तान में आतंकवादीयों के द्वारा कई धमाके किये गयें लेकिन इसके बारे में आज तक कभी भी चर्चा नही किया जा रहा है। समाचार चैनल वालों ने ये नही बताया है कि इन धमाकों के कौन कौन से आंतकवादी पकडें गये हैं तथा इनका कितना बार नार्को टेस्ट किया गया है और नार्को टेस्ट का क्या नतीजा निकता लेकिन मांलेगाव धमाके में पकडें गये सभी आरोपी को ये मिडीया वालों ने सिर्फ आरोप लगने पर ही जो अभी तक न्यायालय द्वारा सिद्ध भी नही हुआ है साध्वी प्रज्ञा सिंह को नया नाम विषकन्या दे दिया। जिस तरह से मालेगांव के धमाके के आरोपियों के बारें में मिडीया वाले अपने न्यूज में बताते हैं मुझे लगता है इन आरोपियों से पुछ-ताछ किसी ए.टी.स के कार्यालय में नही मिडीया चैनल के स्टुडियों में किया जाता है। नार्को टेस्ट होनें के साथ ही समाचार में ये दिखाया जाने लगता है कि किस आरोपी ने टेस्ट में आज क्या कहा जैसे प्रेस रिपोर्टर कैमरा लेकर नार्को टेस्ट के दैरान मौजुद था।
आखिर मिडीया के द्वारा हिन्दु समाज को बदनाम करने कि साजिश नई नही है। कुछ दिन पहले उडी़सा के बडीपदा नामक जगह पर एक नन का बलात्कार के घटना के बारे में समाचार चैनल बालों लगातार कई दिनों तक हल्ला मचाया लेकिन जब पुलिस के द्वारा जाँच किया गया तो पता चला कि नन का बलात्कार किया नही हुआ था सिर्फ हिन्दु संगठन को बदनाम करने के लिये हिन्दु के उपर आरोप लगाये गये थे। तो पुलिस के इस खुलासे को आज तक किसी भी समाचार चैनल वालों नें नही दिखाया।

आज हिन्दुस्तान में जितने भी समाचार के ज्यादा तर चैनल में क्रिश्चन मिशनरी का पैसा लगा है और वांमपथी सर्मथन के द्वारा इस चैनल को चलाया जा रहा है। ये वांमपथी वही हैं जो हिन्दु साधु - संत को गाली देते नही थकते, हिन्दु को भज-भज मंडली कह कर पिछडें मानसिकता वाला करार देतें है धर्म को अफिम कहतें हैं लेकिन क्रिश्चन धर्म में किसी को अगर को अगर संत सर्टीफिकेट मील जाये तो फुले नही समाते। वामंपथीयों को ये पता नही है कि हिन्दु कि तरह क्रिश्चन भी एक धर्म है और अगर धर्म अफिम है तो हिन्दु धर्म की तरहा क्रिश्चन धर्म भी एक अफिम है। अगर वामंपथीयों को ये सब पता है और जान बुझ कर हिन्दु धर्म को गाली देते हैं तो उन्हे अपना नारा बदल कर नया नारा रखना चाहिये हिन्दु धर्म अफिम है और सब धर्म अच्छा है। क्यों कि हिन्दु धर्म में हिंसा का कोई जगह नही है, हिन्दु स्वाथी नही होतें है सर्वे भन्तु सुखीना सर्वे भन्तु निर्माया के सिद्धान्त पर चलता है।

हमें जागरुक रह कर देखना होगा कि कौन है जो हिन्दु को इस तरह से प्रताडी़त कर रहा है। इसके पीछे किस तरह का मानसिकता काम कर रहा है। अखिर कौन है जो हिन्दु को निचा दिखा रहा है उसके पिछे आखिर क्या स्वार्थ छिपा है।

एक मंत्री की डायरी

कही महीनो से दिन का चैन रातो की नींद उडी हुई है. हर समय दिल मे डर लगा रहता है कि कही कोई किसी से बात करते मिलते ना देख ले . फ़ोन पर तो नंबर डायल करने के ख्याल से ही झुरझुरी आ जाती है. और ऐसे मे अनूप जी चैटियाने आ जाते है काहे नही लिख रहे भाई लिखो . अब उन्हे कौन समझाये कि उनसे बात करने के बाद लिखने के लिये हिम्मत कहा से लाये क्या पता कल कही कोई ए टी एस (एशिया टेरोरिस्ट स्पोर्टिंग स्कवाड) वाला आरोप लगा दे कि मै अनूप जी से बम बनाने का तरीका सीख रहा था तो …कुश को कौन समझाये कि भाई सारी मुलाकाते नारकीय टेस्ट मे भूल जाओगे.

डर के मारे इस बार दिवाली मे बम तो छोडिये सुरसुरी से भी अपन मीलो दूर ही बने रहे, यू तो फ़रीदाबाद मे रहना ही अपने आप मे आतंकवादी घोषित करने के काफ़ी बडा सबूत है.(ए टी एस हर बार किसी ना किसी के संबंध फ़रीदाबाद से ढूढ ही लेती है) उस पर हिंदू होना कोढ मे खाज जैसा .तिस पर आपको किसी मंदिर मे , किसी पुजारी , किसी पुरोहित से बतियाते हुये दिख जाना , और गलती से किसी फ़ौजी से आपकी दो चार साल पहले की भेट , चाहे वो ट्रेन मे हुई हो काफ़ी बडा सबूत है बाकी तो आप नारकीय टेस्ट मे स्वीकार ही लेगे. वो तुरंत आपके ब्रेन को मापकर उसमे वो खाली करदी जायेगी जहा से आप किसी आतंकवादी को आतंकवादी कहने की जुर्रत कर रहे थे.

और इस हाल मे हमे ये एक डायरी हाथ लग गई. कई दिन से सोच रहे थे आपको पढाये या ना पढाये .

आखिर कार हमने फ़ैसला कर ही लिया कि हम

१. हिंदूधर्म छोड देते है. अब हम एक धर्मविहीन अल्पसंख्यक प्राणी है. जो हमे अच्छा पैसा देगा हम उसी धर्म के अल्पसंख्यक कहलाने लगेगे.

२. अब हम कोई देश प्रेम फ़्रेम के चक्कर मे नही है. रहेगे यही ,खायेगे यही, नागरिक कहलायेगे यही के, पर जो देश अच्छा पैसा देगा उसी के लिये काम करेगे

३.कोशिश करेगे की हम नेता बन जाये तब उपर वाली दोनो शर्ते स्वंमेव पूरी हो जाती है

यानी अब जब हम इस देश और धर्म से कुछ लेना देना नही है यानी हम अल्पसंख्यक हो गये है. यानी अब हम मानव हो गये है अब हमे मानवाधिकार और अल्पसंख्यक आयोग का वरद हस्त प्राप्त है.अब हमे किसी से कोई खतरा नही है . अब हम आपको ये डायरी क्या बम बनाना भी पढवा सकते है. तो लीजीये पेश है डायरी के कुछ चुनिंदा अंश

“पता नही ये सब क्या चल रहा है जो मै चाहता हू उसमे हमेशा कुछ ना कुछ गडबड हो ही जाता है , अच्छा खासा सब कुछ ठीक ठाक चल रहा था . महीनो बाद मेरे नये सिले सूट भी जनता को दिखाने का मौका भी खूब मिल रहा था. रोज कही ना कही बम विस्फ़ोट हो रहे थे. जितने नागरिक मर रहे थे उससे ज्यादा बंगलादेश से रोज आ ही जाते है अत: अपने पाले के वोटरो की गिनती मे भी लगातार बढ रही थी.

लेकिन अचानक शनि महाराज मेरे से रुष्ट हो गये लग रहे है तभी तो कमबख्त मीडिया वाले तो मेरे नये सिले सूटॊ की बखिया उधेडने के पीछे ही पड गये थे वो तो महारानी का वरदहस्त मेरे उपर था वरना ये तो …..ये तो मेरे ही सूटो मे ही मेरी कुर्सी की कब्र खोद देते.

फ़िर जाने कैसे दिल्ली के एक इंस्पेक्टर को जनून सवार हो गया जो बिना मतलब कुछ सीधे साधे लोगो को गिरफ़तार करने जा पहुचा. हालाकी जैसे ही मुझे पता चला मै खुद पुलिस कंट्रोल रूम दौडा पर मेरे रोकते रोकते भी दुर्घटना घट ही गई . उन बेचारे सीधे साधे लागो को अपनी गिरफ़्तारी से बचने के लिये गोली चलाने पर मजबूर होना पडा .देश के दो होनहार बालक और एक नालायक पुलिस वाला मारा गया.कमबख्त को ये भी नही ध्यान रहा हम इन्डियन मुजाहीद्दीन , सिमी और ऐसे ही अफ़जल भाई के सहयोगी लोगो को अनदेखा करने की नीती पर चल रहे है. देश और विदेश मे मेरी काफ़ी भद पिट गई. पहले ही पूरी दुनिया मे मोदी की वजह से हमे नीचा देखना पड रहा था. कितनी बार मना किया कितनी बार मोदी सरकार द्वारा पकडे गये सिमी के लोगो के घर जाकर हमे लाखो रूपये देकर आने पडे, पर इनकी समझ मे बात आने वाली नही है. खैर .. इस दिल्ली के बटाला कांड से तो महारानी भी काफ़ी नाराज हुई चुनाव पास है, और ऐसे मे कुछ सीधे साधे लोगो का पुलिस द्वारा मारा जाना हमे काफ़ी नुकसान पहुचा सकता है . अफ़जल भाइ भी काफ़ी नाराज थे उन्होने तो जूस का ग्लास भी मेरे मुंह पर फ़ेक मारा. गिलानी तो पहले से ही भारत रत्न ना मिलने से नाराज चल रहे है.

इधर राज ने कुछ बवाला कर जरूर मेरा साथ दिया लोगो का ध्यान मुंबई की और खीच लिया . बस अब भगवान से यही प्रार्थना करता हू कि किसी तरह से ये हिंदू आतंकवादियो की और दुनिया का ध्यान आकर्षित कर सकू . पिछले दिनो मैने पुलिस द्वारा गलतफ़हमी मे पकड लिये गये लड्डूवाला, बम वाला और बाटली वाला कॊ छुडवा दिया है. ताकी बटाला हाऊस के घावो पर मरहम लगाया जा सके उम्मीद है चुनाव से पहले हम नागौरी को भी बाईज्जत बरॊ कराकर जो लोग बम धमाको मे मरे अपने रिश्तेदारो के लिये अल्प संख्यको पर उंगली उठा रहे है, को ही बम धमाको के लिये ए टी एस द्वारा जिम्मेदार ठहरा कर नारकीय टेस्ट के भंवर मे फ़सा देंगे. ताकी भविष्य मे कोई कभी भी बम कांडो के खिलाफ़ आवाज ना उठा सके. कोशिश तो यही रहेगी की पाकिस्तान मे हुये बम विस्फ़ोटो के लिये भी हम हिंदू संस्थाओ और सेना को जिम्मेदार बता सके , और हो सके तो कुछ लोगो का नारको टेस्ट कर उन्हे पाक के हवाले करदे .

ये तो अमेरिकी प्रशासन की बेवकूफ़ी से सारी मेहनत मटियामेट हो गई वरना ए टी एस ने तो जाच पडताल कर अमेरिका के ट्विन टावर के गिराये जाने की घट्ना मे जिम्मेदारी सेना और हिंदू आतंकवादियो के कई लोग भी गिरफ़्तार कर लिये थे. उन्होने से नारकीय टेस्ट मे सच भी उगल दिया था कि उन लोगो ने ही सेना के चुराये गये परमाणू बम से ट्विन टावर गिराने की योजना को अंजाम दिया था. हम तो उन्हे सारे आरोपी भी सोपने को तैयार थे . लेकिन वो इस केस मे लादेन जैसे सज्जन को ही फ़साना चाहते है.

अब तो सिर्फ़ ए टी एस एस ( आल टेरोरिस्ट स्पोर्टिंग स्कवाड) पर ही भरोसा है. वही महारानी के इरादो पर खरी उतरती दिखाई दे रही है. सब कुछ ठीक ठाक रहा तो आने वाले दिनो मे लोग देश भक्ती दिखाना दूर अपने को हिंदू बताना भूल जायेगे . हम तो पहले ही कोर्ट मे हलफ़नामा दे चुके है कि कोई राम ना यहा था, ना है, ना ही हम रहने देगे. चर्च जिंदाबाद इटली जिंदाबाद. धर्म निर्पेक्षता जिंदाबाद.

महारानी चाहती है कि माहौल कुछ ऐसा बने की चुनाव से पहले हम भी घोषणा कर सके कि अब सेना मे केवल मुस्लिम और इसाई समुदाय से ही भर्ती की जायेगी ताकी सेना का वातावरण धर्म निर्पेक्ष बन सके . इसमे भी बंगलादेशी और पाकिस्तानी नागरिको के लिये आरक्षण का प्रविधान रखा जायेगा . इसके लिये लादेन जी और अलजवाहिरी जी से भी राय ली जा रही है.

हम भी चाहते है कि इस बार हम कोई कडा कानून आतंवादी गतिविधियो को रोकने के लिये बनाये जिसमे

१.मरने वालो के उपर ही जिम्मेदारी डाली जाये कि वो वहा गये ही क्यो थे.

२किसी हालत मे अल्प संख्यको को किसी भी प्रकार की असुविधा नही होने दी जाये . यदि कोई भी किसी प्रकार की पूछताछ उनसे की जानी हो तो पहले मानवाधिकार आयोग और अल्प संख्यक आयोग से अनुमति लेकर ही कीजाये.

३.किसी भी बहुसंख्यक को किसी धर्माचार्य , सेना के किसी भी वयक्ती से मिलने पर संदेह मे कभी भी कही भी जांच के लिये गिरफ़्तार करने के लिये खुली छुट दी जायेगी.

४. वैसे तो पिछले साठ सालो मे हम भारत मे जनता का जीना ही नरक मे जीने के समान कर चुके है , लेकिन फ़िर भी साईबेरिया की तरह नारकीय टेस्ट के लिये भारत मे भी एक जगह सुरक्षित की जायेगी और तब जो देशभक्ती दिखायेगा उसे नारको टेस्ट के नाम पर फ़िरदौस लैण्ड भेज दिया जाये.

४. फ़िरदौस लैंड मे सारे टेस्टो की जिम्मेदारी सिमी जैशे मोहम्मद और इन्डियन मुजाहीदीन के हवाले कर दीजायेगी. जहा मानवाधिकार आयोग ये देखेगा कि टेस्ट के लिये आये बहुसंख्यक जैशे मुहम्मद सिमी के अधिकारो का उलंघन ना कर रहे हो.

५.बहुसंख्यक के धर्म परिवर्तन के लिये सरकार अल्पसंख्यको को विषेश अनुदान देगी. सभी बहुसंख्यक धर्मालयो मे आने जाने पर विभिन्न प्रकार के टैक्स लगाकर जिससे अल्प संख्यको को उनके धर्मालयो मे आने जाने के लिये सहायता प्रदान की जाती है का दायरा बढाकर उनके घरो मे पूजन करने पर भी टैक्स लगाया जायेगा.

६.हमे हर हाल मे धर्म निरपेक्ष दिखना है और उसके लिये हमे सिमी इंडियन मुजाहीदीन जैसी ताकतो की सहायता के लिये विषेश अनुदान तथा देश भक्त ताकतो को जड से उखाड फ़ेकने के लिये हर संभव प्रयत्नो के लिये तैयार रहना होगा.

७. बम फ़ोडने वालो के सरकार विषेश ट्रेनिंग विदेश भेजकर सरकारी खर्चे पर दिलवायेगी .बम विस्फ़ोटो मे किसी भी प्रकार की अडचन डालने वालो पर श्री सच्चर साहब के नेतृत्व मे एक विषेश आयोग बनाकर मुकदमे चलाये जायेगे.

८. कशमीर की तरह हिंदुओ को भगाने के लिये अल्पसंख्यको को विषेश सैन्य बल बनाकर दिया जायेगा और उनके समान परिवार पर भगाने वालो को मालिकाना हक दिया जायेगा.

मै जानता हू इस सब मे वक्त लगेगा लेकिन इंशा अल्ला आने वाले साले मे हम ये कर गुजरेगे, और पूरे भारत मे हिंदू नाम पर कोई बोलने वाला नही होगा. आमीन

18 November 2008

महाशक्ति समूह का एक और सदस्‍य शिखर पर

कुछ माह पूर्व अपने महाशक्ति के कुछ सदस्‍यों के नौकरी पेशा होने जाने की सूचना मैने दिया था। हमारे राजकुमार नेताजी ने अपने अपने काम को ज्‍वाइन कर लिया था। आज पुन: मुझे यह धोषणा करते हुये अत्‍यंत खुशी हो रही है कि हमारे सभी सदस्‍यों में रजस्‍थान निवासी सबसे युवा तरूण जोशी '' नारद '' एक बड़ी व्‍यवसायिक कम्‍पनी में बतौर सीईओ आपरेशन जैसे महत्‍वपूर्ण पद कर नियुक्‍त हुये है।मुझे तरूण जोशी जी का मेल परसो मिला था, तभी से यह सूचना पाकर मै आनंदित था, किन्‍तु कल मेरी माता जी ने मुझे बताया कि किसी तरूण जी का फोन था मैने दोबारा उन्‍हे फोन किया और काफी देर तक लम्‍बी बात हुई और उनकी अन्‍य प्रतिभाओं के बारें में जानने को मिला। अभी हमारे तरूण जी 20 वर्ष और कुछ माह की अवस्‍था के है किन्‍तु उन्‍हे कम्‍प्यूटर के क्षेत्र में काफी महारथ हसिल है।

बातों ही बातों में उन्‍होने कहा कि उन्‍हे 210 स्‍नातक और जी और
पूर्वस्नातक युवक और युवतियों की अपनी कम्‍पनी के लिये आवाश्‍यकता है। जो युवक और युवती सभ्‍य, सुन्‍दर और आकर्षक हो वे अपना जीवन वृत्‍त (Bio data) और फोटोग्राफ (Photograph) के साथ उनसे उनके ईमेल पर सम्‍पर्क कर कर सकते है। प्रमुख विभागों में निम्‍न संख्‍या रिक्‍त है - आपरेशन में 10 पुरूष और 80 महिला, आई टी में 10 पुरूष और 20 महिला, टेली कॉलर में 5 पुरूष और 35 महिला एवं कस्‍टमर केयर में 25 पुरूष और 25 महिला की आवाश्‍यकता है। निश्चित रूप से कई लोग अपने लिये रोजगार के अवसर चुन सकते है।

नोट - बायोडाटा वर्ड 2003 फॉर्मेट में भेंजे, साथ फोटो अलग से सन्‍लग्‍न करें, ईमेल के विषय में महाशक्ति समूह का उल्‍लेख करना न भूलें।

तरूण जोशी
ceo-operations@in.com

15 November 2008

"ईर्ष्योत्पादक

"ईर्ष्योत्पादक"

" तत्व ही आपके समग्र विकास का संकेत है ज्ञान दत्त जी की कलम से प्रसूता यह शब्द ब्लॉग्गिंग बनी बवाल-ए-जान,- पर बतौर टिप्पणी में शामिल है . लो भई....! कैंकढ़ा वृत्ति शब्द के समानार्थी शब्द की तलाश ख़त्म हुई ब्लॉग पर प्रसूता शब्द


माचिस की तीली के ऊपर बिटिया की से पलती आग
यौवन की दहलीज़ को पाके बनती संज्ञा जलती आग .
********
एक शहर एक दावानल ने निगला नाते चूर हुए
मिलने वाले दिल बेबस थे अगुओं से मज़बूर हुए
झुलसा नगर खाक हुए दिल रोयाँ रोयाँ छलकी आग !
********
युगदृष्टा से पूछ बावरे, पल-परिणाम युगों ने भोगा
महारथी भी बाद युद्ध के शोक हीन कहाँ तक होगा
हाँ अशोक भी शोकमग्न था,बुद्धं शरणम हलकी आग !
********
सुनो सियासी हथकंडे सब, जान रहे पहचान रहे
इतना मत करना धरती पे , ज़िंदा न-ईमान रहे !
अपने दिल में बस इस भय की सुनो 'सियासी-पलती आग ?
********
तुमने मेरे मन में बस के , जीवन को इक मोड़ दिया.
मेरा नाता चुभन तपन से , अनजाने ही जोड़ दिया
तुलना कुंठा वृत्ति धाय से, इर्षा पलती बनती आग !
********
रेत भरी चलनी में उसने,चला सपन का महल बनाने
अंजुरी भर तालाब हाथ ले,कोशिश देखो कँवल उगा लें
दोष ज़हाँ पर डाल रही अंगुली आज उगलती आग !!
********

इलाहाबाद विश्वविद्यालय : छात्रसंघ पर प्रतिबन्‍ध अनुचित

इलाहाबाद विश्वविद्यालय और छात्र राजनीति का बहुत पुराना रिस्ता है, इसी रिस्‍ते को आज इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय प्रशासन के द्वारा छात्र संद्य चुनाव न करवा कर तोड़ जा रहा है। हो सकता हो कि छात्र संद्य के चुनाव न करवाने से इलाहाबाद विश्वविद्यालय को काफी फायदे मिलते है, जैसा कि कुछ छात्र नेताओं के मुँह से मैने सुना है कि छात्रसंद्य के आभाव में जो पैसा छात्रों के कल्‍याण हेतु आता है वह सब केवल विवि प्रशासन जेब तक ही सीमित हो कर रह जाता है । मुझे इस बात में काफी दम भी लगती है क्‍योकि मैने स्‍वय इलाहाबाद विवि के छात्रावास और अध्‍ययन कक्ष देखे है जिनमें व्‍यवस्‍था के नाम पर आपको कुछ नही मिलेगा। आज जब इला‍हाबाद वि‍श्वविद्याल केन्‍द्रीय दर्जा प्राप्‍त कर चुका है और वहॉं व्‍यवस्‍था के नाम पर सिर्फ अव्‍यवस्‍था दिखती है तो निश्‍चित रूप से दाल में कुछ काला है कि बात जरूर सामने आती है।

आज इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन की अराजकता से ग्रसित है। जब यह विश्वविद्यालय स्‍वनियत्रण में आया है तब से इसके कुलपति अपने आपको विश्वविद्यालय के सर्वेसर्वा मानने लगे है। करोड़ो रूपये की छात्र कल्‍याण हेतु आर्थिक सहायता सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गई है। जो काम छात्रों के काम छात्र संघ होने पर तुरंत हो जाता था आज कर्मचारी उसी काम को करने में हफ्तो लगा देते है। जिस छात्र संघ ने कई केन्‍द्रीय मंत्री और राज्‍य सरकार को मंत्री देता आ रहा है उस पर प्रतिबंध लगाना गैरकानूनी है। आज जबकि जेएनयू और डीयू जैसे कई केन्‍द्रीय विश्वविद्यालयों में चुनाव हो रहे है तो इलाहाबाद केन्‍द्रीय विवि में चुनाव न करवाना निश्चित रूप से विश्‍वविद्यालय प्रशासन द्वारा अपनी खामियों के छिपाने का प्रयास मात्र है।

विश्वविद्यालय राजनीति का अखड़ा नही है किन्तु छात्रसंघ से देश को प्रतिनिधित्‍व का साकार रूप मिलता है। इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन को चाहिये कि अपनी गलती को मान कर छात्रों के सम्‍मुख मॉफी मॉंग कर जल्‍द ही चुनाव तिथि घोषित करना चाहिये। वरन युवा शक्ति के आगे प्रशासन को झ़कना ही पड़ेगा।

13 November 2008

इसे क्या कहेंगे........

करीब सात आठ महिने पहिले एक नवयुवति ने अपना मुंह ढके हुए मेरे क्लिनिक मैंप्रवेश किया ऱऔर आते ही रोने लगी.साथ मैं उसकी चाची ने उसे ढाढस बंधाया और मुंहउघाङने को कहा......पूरा चेहरा मवाद और रक्त से भरा हुआ था और सूजा हुआ था.उसकीआंखे ठीक से नहीं खुल पा रही थी...बात करने पर पता चला कि ये समस्या पिछले दो सालसे है पर छ महिने पहिले ही एकाएक बढ कर इस रूप मैं हो गईहै....अब उसका विवाह होने वाला था कुछ दिनों मैं इसलिए वो कुछ ज्यादा ही परेशान हो गई......उसके साथ आई महिला जो कि उसकी चाची थी ने बता या कि वह कुछ दिन पहले एक बार आत्महत्या का विफल प्रयास भीकर चुकी है....कुल मिलाकर स्थिति विकट थी...खैरमैने उसे ढाढस बंधाया और हर संभव सहायता का भरोसा दिलाया. और विश्वास दिलाया कि वह काफी कुछ ठीक होजायेगी...विश्वास होने पर उसका रोना बंद हुआ.......और आगे से ऐसा कुछ नहीं करने की हिदायत दी.......


मैने अपना निदान तब तक सोच लिया था....यह एक्नि वल्गैरिस (मुंहासे) ग्रैड 5 थाऔर तब तक मैं उसे दिया जाने वाला उपचार की रूपरेखा भी मस्तिष्क मैं बना चुकाथा......तब मैंने आइसोट्रिटिनोइन नामक एकऔषधी प्रारंभ करने के वारे मैं विचार किया...पर कुछ कठिनाइयां थी एक तो यह औषधीमंहगी बहुत थी महिने की करीब 1300 -1400 की दवाई और कम से कम चार पांच महिने तकचलने वाली थी और दूसरे दवाई बंद करने के बाद करीब डेढ साल तक वह गर्भ धारण नहीं करसकती थी ...क्यों कि होने वाले बच्चे मैं गंभीरपरिणाम हो सकते हैं.....


जल्द ही दोनों समस्याओं का समाधान हो गया क्यों कि गर्भ धारण करने की बात वो मान गइ और दवाईयां मैंने उसकी आर्थिक स्थिति देखकर उससे वादा किया कि मैं किसी भी तरह जितना हो सकेगा अपने पास् से दूंगा कम से कम एक तिहाई .........


खैर उपचार प्रारंभ हुआ वो हर पंद्रह दिन मैं आती थी दवाई लेने ....प्रारंभ मै औषधियों का असर थोङा कम होता हैं ...इसलिए वो बार बार हिम्मत हार जाती पर मैने उसे मानसिक और दवाइयों से दोनों तरह से पूरा सहयोग दिया और उसकी हिम्मत बनाए रखी .पर एक बात मुझे खटकती ती वो ये कि वो मुफ्त की दवाइयां तो मेरे से लेती थी पर बाकि दवाइयां मेरे क्लिनिक पर स्थित मैडीकल स्टोर की जगह अपने किसी रिश्तेदार की दुकान से लेती थी........वैसे कभी भी मैं इस चीज का ध्यान कभी नहीं रखता कि कौन यहां से दवाइ लेता है कौन नहीं ....पर चूंकि मैं इस रोगी की इतनी सहायता कर रहा था इस लिए शायद मुझे ये अटपटा लगा......


धीरे धीरे वो ठीक होने लगी ...मैं स्वयं परिणाम से संतुष्ट था और वो भी प्रसन्न थी....करीब पांच महिने बाद एक दिन बङे ही प्रसन्न मुख से उसने मेरे क्लिनिक मैं प्रवेश किया और बोली ..सर दो दिन बाद मेरी शादी है .....आज उसका चेहरा दमक रहा था ,चेहरे के निशान काफी कुछ साफ हो चले थे और बहुत सुंदर दिख रही थी आज...........मैं स्वयं विश्वास नहीं कर पा रहा था कि यह वही लङकी है जो उस दिन पहचान मैं नहीं आ रही थी और जिसका रो रोकर बुरा हाल था.मैंने उसे अंतिम पंद्रह दिन की दवाइयां लिखकर महिने दो महिने मैं वापिस दिखाने को कहकर उसे विदा किया...जाते जाते उसने पलटकर धन्यवाद दिया और दरवाजे के बाहर निकल गई.


ठीक दस मिनिट बाद हरीराम जो कि मेरी फार्मेसी संभालता है ,घबराया हुआ अंदर आया ...सर जो लङकी आईसोट्रिटिनइन लेती है वो दवाई दिखाने आई थी क्या...मैने कहा नहीं वो को वैसे भी अपने यहां से दवाई नहीं लेती है....क्या हुआ......दिखाने के बाद दवाई लेकर तो नहीं आई.....


साब उसने कभी यहां से दवाई नहीं खरीदी.....आज पंद्रह दिन की जगह उसने दो महिने की दवाई ली और आपको दिखाने का नाम लेकर अंदर आई थी....पर वापिस नहीं दिखी........


जिस लङकी को पिछले छै महीने से कि उसके अंधकार मय जीवन मैं एक तरह उजाला हो इसलिए पूरा मन लगाकर मेरे से जितनी संभव है उतनी सहायता की .....वो पूरे ढाई हजार की दवाईयां लेकर गायव हो चुकी थी

10 November 2008

धार्मिक पुस्तकों के प्रकाशन पर रोक नहीं

हाईकोर्ट ने कहा है कि वर्षो पुरानी धार्मिक पुस्तकों के प्रकाशन पर रोक नहीं लगाई जा सकती है। कोई व्यक्ति मुकदमों के जरिए इस तरह के मामले में रोक लगाने की मांग नहीं कर सकता है। यह कोर्ट के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है कि वह इस पर सुनवाई करे। इसके लिए कानून भी बने हुए हैं।


हाईकोर्ट की जस्टिस एसएन ढींगरा की पीठ ने स्वामी दयानंद द्वारा लिखी गई पुस्तक सत्यार्थ प्रकाश के प्रकाशन पर रोक लगाने से इनकार करते हुए यह टिप्पणी की है। पीठ ने निचली अदालत में चल रही सुनवाई पर भी रोक लगा दी है। पीठ ने कहा कि अगर पुरानी किताबों के प्रकाशन पर रोक लगा दी जाए, तो भविष्य में लोग बाइबिल, कुरान, गीता आदि पुस्तकों के प्रकाशन पर रोक लगाने की भी मांग कर सकते हैं। पेश मामले में मुस्लिम समुदाय के दो लोगों ने सिविल कोर्ट में अर्जी दायर कर 135 साल पुरानी धार्मिक पुस्तक सत्यार्थ प्रकाश के प्रकाशन पर रोक लगाने की मांग की थी। इस मामले की सुनवाई निचली अदालत में चल रही है। इसके खिलाफ प्रकाशक सार्वदेशिक प्रेस ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर पूछा था कि क्या दीवानी वाद के जरिए कोई व्यक्ति वर्षो पुरानी धार्मिक पुस्तक पर रोक लगाने की मांग कर सकता है।

05 November 2008

सभी को बधाई


आज महाशक्ति अपने स्‍थापना के 10 साल पूरा कर लिया है, 5 नवम्बर 1999 को गठित हुई जब हम हाई स्‍कूल स्तर के छात्र थे तब हमने इसे बनाया था जो आज तक चल रही है। सभी महाशक्ति सदस्यों को स्थापना दिवस की बधाई। चूकिं विभिन्‍न परिस्थितियों के कारण कोई कार्यक्रम आयोजित नही किया जा रहा है, इस माह में अब जब भी कोई अवकाश होगा, कार्यक्रम मे आप सभी हार्दिक आमन्त्रित है


03 November 2008

गुरु जी सच में विषय ख़त्म हो गए ...?

"कसैला मुंह "- लेकर कहाँ जाएँ भाई पंचम जी ? निपट विष पचाऊ लग रहे हैं । असल में डर ये है कि " सफ़ेद झक्क घर " के सामने से निकलने वाला कोई विनम्र पुरूष उनके " सफ़ेद झक्क घर "-घर की दीवार पे माडर्न आर्ट न बना दे । मेरी राय में अपनी भी जेईच्च प्राबलम्ब है हम तो इस के शिकार हुए हैं चलो अच्छा हुआ अब इकला चलो का नारा सही लगता है हमको ।"अबोध का बोध पाठ " जैसी सार्थक पोस्ट लिखी जा रहीं हो और ......और लम्हे हँस रहें हैं ')">तो हम भी पीछे क्यों रहें भई !
अनुजा जी आदतन धमाका करतीं आज की पोस्ट के लिए मेरी ओर से लाल-पीला-हरा-भगवा-नीला हर रंग का सलाम !! अनुजा जी इनके बारे में पहले ही बता चुका हूँ कि भाई लोग कहते फ़िर रहे हैं इस कथा में देखिए:-

गुरुदेव ने ऐलान कर दिया-"सुनो....सुनो.....सुनो.....साहित्य लेखन के विषय चुक गए हैं...! "
क्या................विषय चुक गए हैं ?
हाँ, विषय चुक गए हैं !
तो अब हम क्या करें....?
विषय का आयात करो
कहाँ से .... ?
चीन से मास्को से .....?
अरे वही तो चुक गए हैं....!
फ़िर हम क्या करें..........?
लोकल मेन्यूफेक्चरिंग शुरू करो
औरत का जिस्म
हो इस पे लिखो
भगवान,आस्था विश्वास....भाषा रंग ..!
अरे मूर्ख ! इन विषयों पे लिख के क्या दंगे कराएगा .
तो इन विषयों पर कौन लिखेगा ?
लिखेगा वो जिसका प्रकाशन वितरण नेट वर्क तगड़ा हो वही लिखेगा तू तो ऐसा कर गांधी को याद कर , ज़माना बदल गया बदले जमाने में गांधी को सब तेरे मुंह से जानेंगे तो ब्रह्म ज्ञानी कहाएगा !
गुरुदेव ,औरत की देह पर ?
लिख सकता है खूब लिख इतना कि आज तक किसी ने न लिखा हो
******************************************************************************************

लोग बाग़ चर्चा करेंगे, करने दो हम यही तो चाहतें हैं कि इधर सिर्फ़ चर्चा हो काम करना हमारा काम नहीं है.
" तो गुरुदेव, काम कौन करेगा ?
जिसको काम करके रोटी कमाना हो वो करे हम क्यों हम तो ''राजयोग'' लेकर जन्में है.हथौड़ा,भी सहज और हल्का सा हो गया है . वेद रत्न शुक्ल,, की टिप्पणी अपने आप में एक पूरी पोस्ट बन गई इस ब्लॉग पर
***********************************************************************************
चलो चलते-चलते एक गीत हो जाए
अदेह के सदेह प्रश्न
कौन गढ़ रहा कहो ?
कौन गढ़ कहो ?
बाग़ में बहार में
सावनी फुहार में
पिरो गया किमाच कौन?
मोगरे हार में ?
और दोष मेरे सर कौन मढ़ गया कहो..?
एक गीत आस का
एक नव प्रयास सा
गीत था अगीत था
या कोई कयास था..!
ताले मन ओ'भाव पे कौन जड़ गया कहो ..?
जो भी सोचा बक दिया
अपना अपना रख लिया
असहमति पे आपने
सदा ही है सबक दिया
पग तले मुझे दबा कौन बढ़ गया कहो ..?
(आभारी हूँ जिनका :अंशुमाली रस्तोगी,मत विमत,पंचम जी और उनका जो सहृदयता से चर्चा का आनंद लेंगे )
और ब्लॉगवाणी के प्रति कृतज्ञ हूँ

एक कविता : मुकुल की


"विषय '',
जो उगलतें हों विष
उन्हें भूल के अमृत बूंदों को
उगलते
कभी नर्म मुलायम बिस्तर से
सहज ही सम्हलते
विषयों पर चर्चा करें
अपने "दिमाग" में
कुछ बूँदें भरें !
विषय जो रंग भाषा की जाति
गढ़तें हैं ........!
वो जो अनलिखा पढ़तें हैं ...
चाहतें हैं उनको हम भूल जाएँ
किंतु क्यों
तुम बेवज़ह मुझे मिलवाते हो इन विषयों से ....
तुम जो बोलते हो इस लिए कि
तुम्हारे पास जीभ-तालू-शब्द-अर्थ-सन्दर्भ हैं
और हाँ तुम अस्तित्व के लिए बोलते हो
इस लिए नहीं कि तुम मेरे शुभ चिन्तक हो ।
मेरा शुभ चिन्तक मुझे
रोज़ रोटी देतें है
चैन की नींद देते हैं

02 November 2008

वह दिन जब हिन्दू नही होगा साम्प्रायिक

आज देश में दहशत का माहौल बनाया जा रहा है, कहीं आंतकवाद के नाम पर तो कहीं महाराष्ट्रवाद के नाम पर। आखिर देश की नब्ज़ को हो क्या गया है। एक तरफ अफजल गुरू के फांसी के सम्बन्ध में केन्द्र सरकार ने मुँह में लेई भर रखा है तो वहीं दूसरी ओर महाराष्ट्र की ज्वलंत राजनीति से वहॉं की प्रदेश सरकार देश का ध्यान हटाने के लिये लगातार साध्वी प्रज्ञा सिंह पर हमले तेज किये जा रही है और इसे हिन्दू आंतकवाद के नाम पर पोषित किया जा रहा है। य‍ह सिर्फ इस लिये किया जा रहा है कि उत्तर भार‍तीयों पर हो रहे हमलो से बड़ी एक न्यूज तैयार हो जो मीडिया के पटल पर लगातार बनी रहे। 

आज भारत ही  नही सम्पूर्ण विश्व इस्लामिक आंतकवाद से जूझ रहा है, विश्व की पॉंचो महाशक्तियॉं भी आज इस्लामिक आंतकवाद से अछूती नही रह गई है। आज रूस तथा चीन के कई प्रांत आज इस्लामिक आलगाववादी आंतकवाद ये जूझ रहे है। इन देशों में आज आंतकवाद  इसलिये सिर नही उठा पा रहे है क्‍योकि इन देशों में  भारत की तरह सत्तासीन आंतकवादियों के  रहनुमा राज नही कर रहे है।

भारत में आज दोहरी नीतियों के हिसाब से काम हो रहा है, मुस्लिमों की बात करना आज इस देश में धर्मर्निपेक्षता है और हिन्दुत्व की बात करना इस देश में सम्प्रादयिकता की श्रेणी में गिना जाता है। आज हिन्दुओं को इस देश में दोयम दर्जे का नागरिक बना दिया गया है। इस कारण है कि मुस्लिम वोट मुस्लिम वोट के नाम से जाने जाते है जबकि हिन्दुओं के वोट को ब्राह्मण, ठाकुर, यादव, लाला और एसटी-एससी के नाम से जाने जाते है। जिन ये वोट हिन्‍दू मतदाओं के नाम पर निकलेगा उस दिन हिन्दुत्व और हिन्दू की बात करना सम्प्रादायिकता श्रेणी से हट कर धर्मनिर्पेक्षता की श्रेणी में आ जायेगा, और इसे लाने वाली भी यही सेक्यूलर पार्टियॉं ही होगी। 

01 November 2008

स्वर्गीय केशव पाठक

सहज स्वर-संगम,ह्रदय के बोल मानो घुल रहे हैं
शब्द, जिनके अर्थ पहली बार जैसे खुल रहे हैं .
दूर रहकर पास का यह जोड़ता है कौन नाता
कौन गाता ? कौन गाता ?
दूर,हाँ,उस पार तम के गा रहा है गीत कोई ,
चेतना,सोई जगाना चाहता है मीत कोई ,
उतर कर अवरोह में विद्रोह सा उर में मचाता !
कौन गाता ? कौन गाता ?
है वही चिर सत्य जिसकी छांह सपनों में समाए
गीत की परिणिति वही,आरोह पर अवरोह आए
राम स्वयं घट घट इसी से ,मैं तुझे युग-युग चलाता ,
कौन गाता ? कौन गाता ?
जानता हूँ तू बढा था ,ज्वार का उदगार छूने
रह गया जीवन कहीं रीता,निमिष कुछ रहे सूने.
भर न क्यों पद-चाप की पद्ध्वनि उन्हें मुखरित बनाता
कौन गाता ? कौन गाता ?
हे चिरंतन,ठहर कुछ क्षण,शिथिल कर ये मर्म-बंधन ,
देख लूँ भर-भर नयन,जन,वन,सुमन,उडु मन किरन,घन,
जानता अभिसार का चिर मिलन-पथ,मुझको बुलाता .
कौन गाता ? कौन गाता ?

30 October 2008

हिन्दु आतंकवादी एक और कंलक का कोशिश

14 नवम्बर 2004 दिपावली के ठीक पहले शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र स्वामी को ठीक पुजा करते समय गिरफ्तार किया गया सेकुलर के द्वारा यह किसी विश्व विजय से कम नही था जम कर खुशीयाँ मनायी गया। इस खुशी के माहौल को दुगना करने में मिडीया का भरपुर सहयोग मिला मिडीया पुलिस और खूफिया ऎजेन्सी से ज्यादा तेज निकला और डेली एक नया सबूत लाकर टी.वी समाचार के माध्यम से दिखाया जाने लगा हिन्दु साधु-संत को जम कर गालिया दिया जाने लगा सभी को हत्यारा कहा जाने लगा। लेकिन सेकुलर और मिडीया का झुठ ज्यादा दिन तक नही टिका और शकराचार्य स्वामी जयेन्द्र स्वामी के खिलाफ सेकुलर और मिडीया कुछ भी नहीं साबित कर रहा था, सभी आरोप को बकवास करार दिया गया, उच्चतम न्यायालय का फैसला शकराचार्य स्वामी जयेन्द्र स्वामी के पक्ष में आया उन्हे हत्या के आरोप से जमानत के द्वारा रिहा कर दिया गया।

इस दीवाली हिन्दुओ के उपर एक और कंलक लगाने का कोशिश किया जा रहा हिन्दु आतंकवादी का बैगर किसी सबूत के एक हिंदू साध्वी को मालेगांव विस्फोटों में उसकी कथित तौर पर शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के पास सबूत नही है। जिस मोटर बाइक का उपयोग विस्फोट में करने के बारे में बताया जा रहा है उस बाइक को कुछ साल पहले बेच दिया गया था। स्पेशल पुलिस रविवार को साध्वी प्रज्ञा सिंह के किराए के मकान पर छापा मारा, लेकिन वहाँ से कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला। मुंबई एटीएस प्रदेश में साध्वी प्रज्ञा से जुड़े लोगों की गतिविधियों की जानकारी एकत्रित कर रही है। लेकिन अभी तक पुलिस को कोई खास सफलता मिला लगता नही है। लेकिन इस मुद्दे पर काग्रेसी और उसके सहयोगी के द्वारा झुठा प्रचार सुरु कर दिया गया है । चुनाव से पहले खुफिया ऎजेन्सी और पुलिस को अपने चुनाव ऎजेन्ट के रुप में काम करवाया जा करवा दिया है। काग्रेस के नेता और उनके सहयोगी दल इसी कोशीश में लगे हैं कि किस हिन्दु संघठन को चुनाव तक हिन्दु आतंकवादी का तगमा लगा कर रखा जाये जिससे चुनाव में फायदा उठाया जा सके।

कांग्रेस सरकार इस पांच साल में इस देश को क्या दिया है। इस सरकार के दौरान सबसे ज्यादा मुस्लिम आतंकी का भयावह चेहरा हिन्दुस्तान देखा है। आंतकी को सरक्षण देने के लिये पोटा हटा दिया गया। परमाणु करार के द्वारा सरकार अपना परमाणु और रक्षा निती अमेरिका के हाथ में गिरवी रख दिया है। आखिर कौन सा चेहरा मुंह कांग्रेस उन किसानो के पास वोट मागने जायेगा जिसके परिजन आत्महत्या कर चुके हैं। हिन्दुस्तान का अर्थव्यवस्था आज जिस गति से निचे गिर रहा है उतना तेजी से शायद सचिन और धोनी ने रन भी नही बनाता है। हमारे अमेरिकन स्कालर प्रधानमंत्री और उनके सहयोगी वित्त मंत्री के द्वारा लाख भरोसा और आश्वासन के बाबजुद भी अर्थव्यवस्था का गिरना बन्द नही हो रहा है अगर हालत यही रहा तो 1-2 महीना के अन्दर हिन्दुस्तान में भुखमरी सुरु हो जायेगा।

सोचने योग्य बाते हैं आखिर हिन्दु अपने देश हिन्दुस्तान में क्यों बम विस्फोट करेंगे। उन्हें ना तो किसी देवता के द्वारा जिहाद करने को कहा गया है। नही हिन्दु इस देश को दारुल हिन्दुस्तान बनाना चाहता है। हिन्दु के किसी धर्म ग्रन्थ में कही भी यैसा भी नही लिखा है कि दुसरे धर्म वालो को तलवार से सर कलम कर दो। उसके बच्चों को उसी के सामने पटक कर मार दो उसकी बहन और बेटी का बलात्कार करो। किसी हिन्दु धर्मगुरु ने मंदिर के उपर चढकर अपने भक्तों को कभी नही कहा होगा की तुम्हे अपने घर में हथियार रखना जरुरी है और हिन्दु जिहाद के नाम पर चन्दाँ इकट्ठा कर के आतंकवादीयों को सुरक्षा मुहैया करना है आतंकवादीयों को अपने घर में पनाह देना है। और उसे न तो किसी आतंकवादी देश के द्वारा छ्दम युद्ध लड़ने के लिये पैसा मिलता है। आखिर क्या कारण है कि हिन्दु अपने घर को तवाह करना चाहते हैं। कोई कारण समझ में नही आता है सिर्फ इतना ही समझ में आरहा है कि हिन्दु आतंकवाद का डर दिखा कर कुछ मुस्लिम तुस्टिकरण में लिप्त, आतंकवादियों के सहयोगी राजनिती पार्टी को चुनाव में फायदा होगा। और कोई कारण नही है इस हिन्दु आतंकवादी का।

सत्यमेव जयते के सिद्धान्त का पालन करते हुये हिन्दु इसी आशा में बैढे हैं कि जिस तरह से शकराचार्य स्वामी जयेन्द्र स्वामी को न्यायालय के द्वारा बाइज्जत बरी किया गया उसी तरह इस साध्वी प्रज्ञा सिंह भी एक दिन इज्जत के साथ जेल से रिहा होगी और तथाकथित सेकुलरिज्म का नकाव पहने, समाचार के नाम पर दलाली करने बाले मिडीया के गाल में तमाचा मारते हुये। फिर से इस देश में अपने ओजस्वी भाषण, देशभक्ती कार्य के द्वारा इस देश को परम वैभव में पहुचाने के कार्य में लग जायेगी।

http://ckshindu.blogspot.com

27 October 2008

दीपावली की शुभकामनाएं :एक चिंतन


दीपावली की धूमधाम भरी तैयारीयों में इस बार श्रीमती गुप्ता ने डेरों पकवान बनाए सोचा मोहल्ले में गज़ब इम्प्रेशन डाल देंगी अबके बरस बात ही बात में गुप्ता जी को ऐसा पटाया की यंत्र वत श्री गुप्ता ने हर वो सुविधा मुहैय्या कराई जो एक वैभव शाली दंपत्ति को को आत्म प्रदर्शन के लिए ज़रूरी था । इस "माडल" जैसी दिखने के लिए श्रीमती गुप्ता ने साड़ी ख़रीदी गुप्ता जी को कोई तकलीफ न हुई । घर को सजाया सवारा गया , बच्चों के लिए नए कपडे यानी दीपावली की रात पूरी सोसायटी में गुप्ता परिवार की रात होनी तय थी । चमकेंगी तो गुप्ता मैडम,घर सजेगा तो हमारी गुप्ता जी का सलोने लगेंगे तो गुप्ता जी के बच्चे , यानी ये दीवाली केवल गुप्ता जी की होगी ये तय था । समय घड़ी के काँटों पे सवार दिवाली की रात तक पहुंचा , सभी ने तय शुदा मुहूर्त पे पूजा पाठ की । उधर सारे घरों में गुप्ता जी के बच्चे प्रसाद [ आत्मप्रदर्शन] पैकेट बांटने निकल पड़े । जहाँ भी वे गए सब जगह वाह वाह के सुर सुन कर बच्चे अभिभूत थे किंतु भोले बच्चे इन परिवारों के अंतर्मन में धधकती ज्वाला को न देख सके ।
ईर्ष्या वश सुनीति ने सोचा बहुत उड़ रही है प्रोतिमा गुप्ता ....... क्यों न मैं उसके भेजे प्रसाद-बॉक्स दूसरे बॉक्स में पैक कर उसे वापस भेज दूँ .......... यही सोचा बाकी महिलाओं ने और नई पैकिंग में पकवान वापस रवाना कर दिए श्रीमती गुप्ता के घर ये कोई संगठित कोशिश यानी किसी व्हिप के तहत न होकर एक आंतरिक प्रतिक्रया थी । जो सार्व-भौमिक सी होती है। आज़कल आम है ............. कोई माने या न माने सच यही है जितनी नैगेटीविटी /कुंठा इस युग में है उतनी किसी युग में न तो थी और न ही होगी । इस युग का यही सत्य है।
{इस युग में क्रान्ति के नाम पर प्रतिक्रया वाद को क्रान्ति माना जा रहा है जो हर और हिंसा को जन्म दे रहा है }
दूसरे दिन श्रीमती गुप्ता ने जब डब्बे खोले तो उनके आँसू निकल पड़े जी में आया कि सभी से जाकर झगड़ आऐं किंतु पति से कहने लगीं :-"अजी सुनो चलो ग्वारीघाट गरीबों के साथ दिवाली मना आऐं

दीपों का त्यौहार

आया देखो आया देखो दीपों का त्यौहार,
लेकर आया है ये मस्त पटाखों का संसार.

मिलकर घरवालों के संग मनालो ये त्यौहार,
पर पटाखों से ना हो पर्यावरण पर प्रहार.

मिलने का मौसम आया, महफिलें जमालो,
और अपनी खुशियों का संसार बसालो.

बच्चे जलाएंगे फुलझाडियाँ,बड़े बाटेंगे मिठाइयाँ.
मौसम लायेगा मस्त बहार, फिजाएं में जैसे शहनाइयां.

झूमेगा सारा संसार, गाएगा हर परिवार,
अब तो होगा हर जगह, खुशियों का अम्बार...

देखो यारों देखो आया दीपों का त्यौहार,
इसके आने से देखो झूम उठा संसार.

26 October 2008

हिन्दु आतंकवादि गंदी राजनीति का गंदा खेल

मालेगांव में हुये विस्फोट के मामले में पुलिस के द्वारा हिन्दु संगठन पर लगाये गये आरोप में कितनी सच्चाई है यह तो समय आने पर मालूम होगा लेकिन कुछ प्रशन है जो दिमाग में चुभ रहा है - आतंकवादी घटना में हिन्दू की गिरफ्तारी उतनी चौंकाने वाले नहीं है जितनी उसकी टाइमिंग। आखिर अभी तक साध्वी और उनके साथ गिरफ्तार लोगों के ऊपर मकोका के तहत मामला क्यों दर्ज नहीं किया गया है और यह मामला भारतीय दण्ड संहिता के अंतर्गत ही क्यों बनाया गया है जबकि आतंकवादियों के विरुद्ध मकोका के अंतर्गत मामला बनता है। इससे स्पष्ट है कि संगठित अपराध की श्रेणी में यह मामला नहीं आता। आज एक और तथ्य सामने आया है जो प्रमाणित करता है कि मालेगाँव विस्फोट में आरडीएक्स के प्रयोग को लेकर महाराष्ट्र पुलिस और केन्द्रीय एजेंसियों के बयान विरोधाभासी हैं। महाराष्ट्र पुलिस का दावा है कि वह घटनास्थल पर पहले पहुँची इस कारण उसने जो नमूने एकत्र किये उसमें आरडीएक्स था तो वहीं महाराष्ट्र पुलिस यह भी कहती है कि विस्फोट के बाद नमूनों के साथ छेड्छाड हुई तो वहीं केन्द्रीय एजेंसियाँ यह मानने को कतई तैयार नहीं हैं कि इस विस्फोट में आरडीएक्स का प्रयोग हुआ उनके अनुसार इसमें उच्चस्तर का विस्फोटक प्रयोग हुआ था न कि आरडीएक्स। इसी के साथ केन्द्रीय एजेंसियों ने स्पष्ट कर दिया है कि मालेग़ाँव और नान्देड तथा कानपुर में हुए विस्फोटों में कोई समानता नहीं है। अर्थात केन्द्रीय एजेंसियाँ इस बात की जाँच करने के बाद कि देश में हिन्दू आतंकवाद का नेटवर्क है इस सम्बन्ध में कोई प्रमाण नहीं जुटा सकी हैं।
जामिया नगर इनकाउंटर में कथित सेक्युलर लोग पुलिस के सबूतों को मानने से इनकार कर रहे है जहाँ कई राउन्ड गोली चला खतरनाक हथियार मिला लेकिन मालेगांव में पुलिस के सूत्रों के हवाले से मिली खबर पर हो-हल्ला क्यों क्या हिन्दु संघटन के पकरे गये कार्यकर्ता के साथ किसी तरह का मुठभेड़ हुआ था क्या किसी तरह का खतरनाक हथियार मिला था नही सिर्फ पुलिस के द्वारा आरोप लगायें गयें है। यह अभी तक सिद्ध नही है कि बम धमाकों में इन्ही लोगों का हाथ है। अगर ये विस्फोट करते तो क्या इतने नासमझ हैं ये कि अपना मोटर बाइक का इस्तेमाल करते। 2000 का कही से साइकल भी तो खरीद सकते थे या फिर यैसा भी नही है कि मोटर पर विस्फोट करने से असर कुछ ज्यादा होता है। कुछ दिन पहले तक मालेगाव विस्फोट का सक सिमी पर था एकाएक चुनाव नजदिक आते ही हिन्दुओं के संस्था का नाम कैसे जुड गया यह बात कुछ हजम नही हो रहा है। पुलिस इस विस्फोट में R.D.X का प्रयोग का बात कह रही थी लेकिन अभी तक किसी पुलिस बाले ने बताया नही कि इनके पास R.D.X आया कहा से किसने बेचा कहा से लाया इन्होंने। मालेगांव के अगर छोड दे तो सैकडों आतंकी बम विस्फोट हुये जिसका स्पेशल पुलिस पता नही लगा पाया लेकिन चुनाव के ठिक पहले पुलिस के ये कैसे पता चल गया कि मालेगांव में विस्फोट एक महिला साध्वि का हाथ है। सरकार जिस तरह से कुछ दिन पहले से बजरंग दल, विश्व हिन्दु परिषद पर बैन लगाना चाहता था लेकिन किसी तरह के सबूत ना मिलने पर इन संस्थाओ को काग्रेस सरकार बैन नही लगा पाया कही ये निराशा में उठाया गया यह कदम तो नही है।
अगर देखा जाये तो चुनाव में उतरने के लिये सरकार में बैठे राजनितीक दल के पास जनता के सामने मुह दिखाने लायक कुछ भी नही है। महगाई आसमान कब का छु चुका है वित्त मंत्री के बार - बार आश्वासन के बावजुद महगाई उतरने का नाम नही ले रहा है। किसानों को उपजे फसल का दाम मिल नही रहा है किसान कर्ज में दबे जा रहे हैं जिसके फलस्वरुप किसान अत्महत्या कर रहें हैं। आतंकवाद के समर्थन में सत्ताधारी नेताओं के उतरने से इन दलों पर से आम जनता का भरोसा पहले डिग चुका है। एक अदना सा आतंकवादि को फांसी तक ये सरकार नही दे पाया। पोटा जैसा कानून जो आतंक का कमर लगभग हिन्दुस्तान में तोड दिया था उस पोटा को हटा कर सरकार ने इस देश में आतंकवाद को दुबारा से फलने फुलने का मैका दिया । इस देश में अवैध रुप से रहे 5 करोड से ज्यादा बाग्लादेश जो कि आतंकवाद, चोरी, अपहरण, पाकेटमारी, डकैती जैसी घटना में संलिप्तता पाया गया है वैसे अपराधी तत्व को सिर्फ वोट राजनीति के कारण इस देश में बिठा कर रखा गया है और इनका राशन कार्ड, वोटिग कार्ड बना कर सरकार अघोषित रुप से इन्हें नागरिकता प्रदान कर रही है।
आज हिन्दुस्तान का हर एक कोना जल रहा है काग्रेस प्रायोजित उत्तर भारतीयों का पिटाई जिसमें अभी तक कितनों का जान जा चुका है और सरकार ताली बजा कर मजा ले रहा है। नार्थ इस्ट में बिहार के मजदुरों का हत्या। अमरनाथ जमीन विबाद में सरकार का चेहरा बेनकाब हो गया। राम सेतु जिस से देश को एक पैसे भी फायदा नही होने बाला है उस राम सेतु को तोड़ने के लिये सरकार जिस तरह से ललायित दिख रही है उस से पता चलता है दाल में जरुर कुछ काला है। राम का अस्तित्व नही है राम मनगंठत है लेकिन मुस्लामानों को हज के लिये हजार तरह का सुविधा और सव्सिडी दे कर काग्रेस पहले से ही हिन्दु के वोट से हाथ धो चुका है।
अब क्या करें चुनाव में जाना है और जनता को मुह भी दिखाना है दोबारा सत्ता में आने का सपना भी देखना है। अब बस एक तरीका है हिन्दु आतंकवादि । हिन्दुओ को निचा दिखा कर जनता को भ्रम में डालकर हिन्दू विरोधी माहौल तैयार करके मुस्लमानों को भय दिखा कर मुस्लिम तुष्टिकरण के द्वारा समाज को अगरे और पिछडे़ में बाँट कर दोबारा सत्ता मिल सकता है।
http://ckshindu.blogspot.com

22 October 2008

देश तोड़ते दो नेता

आज देश किस मोड़ पर जा रहा है, आज के नेतागण देश और धर्म को चूस रहे है। महाराष्ट्र में राज ठाकरे देश को तो समाजवादी पार्टी के कुछ नेता देश और धर्म को बॉंट रहे है। आज इन नेताओं की मानसिकता बन गई है कि बन गई है कि इस देश में उसी का राज है। आज इन अर्धमियों के आगे अपना देश और सविंधान नतमस्तक  हो गया है। आखिर ये देश और देश की राजनीति को किस दिशा में ले जाना चाहते है ? 

आज जिस प्रकार महाराष्ट्र में राज ठाकरे द्वारा कुराज किया जा रहा है, वह देश बॉंटने वाला है। आज ये क्षेत्रवाद के नाम पर देश को बॉट रहे है। वह देश की संस्‍कृतिक विरासत के लिये खतरा है। अगर इसी प्रकार क्षेत्रवाद के नाम पर राष्‍ट्र को बॉंटा जायेगा तो देश का बंटाधार तो तय है। भारत को उसकी विविधा के कारण जाना जाता है। पर इस विवि‍धा वाले देश को मराठा और तमिल के नाम पर कुछ क्षेत्रिय नेता आपनी राजनीतिक जमीन तलाश रहे है। ये नेता क्यो भूल जाते है कि जो क्षेत्रवाद की राजनीति करते है। वे भूल जाते है कि वे जिस मराठा मनुष की बात करते है वही के मराठा मानुष भारत के अन्य राज्यों में भी रहते है। अगर उनके हितो को नुकसान पहुँचाया जायेगा तो कैसा लगेगा ? 

आज कल सपा नेताओं को भी चुनाव आते ही मुस्लित हितो का तेजी से ध्‍यान आने लगा है। जिनते आंतकवादी मिल रहे है सपा उन्हे अपना घरजमाई और दमाद बना ले रही है। अमर सिंह की तो हर आंतकवादी से रिस्‍ते दारी निकल रही है। तभी देश की रक्षा करते हुये शहीदो से ज्‍यादा सपा और उसके नेताओं को अपने घर जामईयों की ज्‍यादा याद आ रही है।

यह देश आज आत्‍मघातियों से जूझ रहा है, जो क्षण क्षण देश को तोड़ रहे है। भगवान राजठाकरे को, और अल्लाह मियॉं अमर सिंह को सद्बुद्धि दे की ये देश के बारे कुछ अच्छा सोचे और देश के विकास में सहयोग करें। इसी में सबका भला है। 

21 October 2008

जेब ढीली हो ग ई क्या ?

आने वाली है दिवाली

उसके पहले ही होगी जेबें खाली

धनतेरस पर धन जाये

एक खरीदे कंगन अगूठी

मुफ्त पायें।

बीबी की जिंद

बच्चों के कपड़े करते हैं कंगाल

हाय ये मौसम और ये त्योहार

खुश हूँ मैं भी ये दिखता है सब को

अन्दर ही अन्दर दुखता दिल है

और चुप मैं हूँ

करता हूँ मैं अब यही कामना

जाये ये त्यौहार

छूटे जेब का भार

राष्ट्रीय एकता परिषद का राजनीतिक दुरुपयोग

कांग्रेस सरकार राष्ट्रीय एकता परिषद के मंच का राजनीतिक दुरुपयोग कर रहा है। यह राष्ट्रीय एकता का ढकोसला है। विगत सप्ताह एकता परिषद की दिल्ली में हुई बैठक के एजेंडे से ही यह झलक मिल रही थी कि यह बैठक बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद को घरने के दुराग्रह के साथ आयोजित की जा रही थी क्योंकि आज देश के सामने जो सबसे गंभीर संकट है अर्थात आतंकवाद, वह इस बैठक के एजेंडे में ही नहीं था। बल्कि उड़ीसा और कर्नाटक की हिंसक घटनाओं के परिप्रेक्ष्य में साम्प्रदायिकता को बैठक का केन्द्रीय विषय बनाया गया। यह स्पष्ट है कि परिषद की यह बैठक आगामी चुनावों को ध्यान में रखकर साम्प्रदायिकता के नाम पर हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों और भाजपा को आरोपित कर छद्म सेकुलर जमात अल्पसंख्यक समुदायों को यह संदेश देना चाहती थी कि वही उनकी हिमायती है। बजरंग दल के खिलाफ स्वर को मुखर करने के लिए समाजवादी पार्टी के महासचिव अमर सिंह को परिषद का सदस्य मनोनीत किया गया जबकि अमर सिंह ने आतंकवादियों के खिलाफ पुलिस मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिस अधिकारी शहादत पर ही प्रश्न चिन्ह लगा दिया था। अमर सिंह जैसे लोगों को परिषद में शामिल कर सरकार क्या संदेश देना चाहती है। इस बैठक की गंभीरता का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि बैठक में विशष आमंत्रित के रूप में बुलाए गए कामरेड ज्योति बसु ने स्वयं उपस्थित न होकर अपना जो संदेश भेजा वह परिषद की कार्यशैली व भूमिका पर प्रश्नचिन्ह लगाता है। भाजपा द्वारा आतंकवाद जैसे गंभीर विषय को बैठक के एजेंडे में शामिल करने के लिए जोर देने पर सरकार ने चरम पंथ को एजेंडे में शामिल किया क्यों कि संप्रग सरकार व उसके छद्म धर्मनिरपेक्ष घटक दल जानते हैं कि आतंकवाद पर व्यापक बहस हुई तो उन सबकी पोल खुलेगी और फिर देश की जनता जानेगी कि सोनिया पार्टी की सरकार और लालू,पासवान व मुलायम सिंह जैसे उसके सहयोगी किस तरह मुस्लिम तुष्टीकरण के लिए न केवल आतंकवाद के खिलाफ कड़े कदम उठाने से कतरा रहे हैं बल्कि आतंकवादी समूहों के पैरोकारी कर रहे हैं।
http://ckshindu.blogspot.com

कितना कठिन है सबको साथ लेकर चलना


"अनूप जी"की एक लाइना देख कर लगता है की एक दूसरे से जुड़ने में कितना आनंद है । 'अनपेक्षित विवाद
को लेकर जो बबाल मचा "उस पर अनूप जी ने बस इतना कहा लिखते रहिए !" वास्तव में लिखने की धारा में कमी हो उनका उद्द्येश्य है इसके पीछे । इसमें बुराई क्या है अगर बुराई है तो "इनके"कार्यो में रचनात्मकता की चेतना के अभाव को देखा जा सकता है । राज ठाकरे जैसे व्यक्तियों को कितना भी राज़ ठाकरे जी "सादर-अभिवादन"">समझाया जाए हजूर के कानों में जूँ भी न रेंगेगी तो ये भी जान लीजिए हजूर "जिंदगी "से हिसाब मांगती रहेगी कल की घड़ी तब आप भौंचक रह जाएंगे और तब आपके आंसू निकल आएँगे ये तय है। ये हम नहीं लोगों का कहना है जिन को आप क्षेत्र,भाषा,धर्म,प्रांत,के नाम पर तकसीम कर रहें हैं । "वशीकरण, सम्मोहन व आकर्षण हेतु “' किसी का या "मन्त्र"-का उपयोग करिए । "ताना-बाना"बिनतीं, विघुलता का स्वागत
विघुलता जी एक अच्छी साहित्य कार होने के साथ साथ पत्रकारिता से भी सम्बद्ध हैं तथा सभी ब्लॉगर जो आज की चर्चा में शामिल हैं उनका हार्दिक सम्मान जिनके चिट्ठे छूट गए उनसे क्षमा याचना के साथ
आपका स्नेह एवं कभी कभार कोप भाजन
गिरीश बिल्लोरे मुकुल