08 January 2009

टूटता देश और देखते हम

जम्‍बू कश्‍मीर में हाल में जो चुनाव  परिणाम आये है, उससे घाटी में बदलती वायर कहा जा सकता है। भारतीय जनता पार्टी ने 11 सीटो पर विजय प्राप्‍त कर विधान सभी में आपनी प्रखर मौजुदगी दर्ज कराई है। भाजपा को 11 तथा अन्‍य पार्टीयों को जम्‍बू में मिले सीट और वोट सत्‍ताधारियों द्वारा होते जम्‍मू पर हो रहे हत्‍याचार का प्रमाण है। हमेंशा से इस प्रदेश जम्‍बू डीविजन अग्रणी रहा है किन्‍तु राजनीति की कुटिल चालो के कारण है यह सत्‍ता की सी‍ढी पर चढ़ने से वंचित रहा है। आज के दिन भारतीयों को तोड़ने की बात करने वाला उमर अब्‍दुल्‍ला वहॉं मुख्‍यमंत्री बन गया है, और हम उससे उम्‍मीद ही क्‍या की जा सकती है।

हमारे स‍ंविधान की धारा 370 जम्‍बू कश्‍मीर को देश का अंग बनाने रोक रहा है। अक्‍सर हमारे मंत्रियों और प्रधामंत्री को कश्‍मीर यात्रा के दौर यह कहना पड़ता है कि कश्‍मीर हमारा अंग है। अखिर हम यह किसे बता रहे है। आज राजनीति के मेज पर भारत की जनता को लूटने और ठगने का प्रयास किया जा रहा है। विश्‍व की बात छोड़े भारत में कुछ लोग आईएएस और पीसीएस जैसी महत्‍वपूर्ण परीक्षा में देश के खडि़त मानचित्र प्रकाशित किये जाते है। हाल में मेरे पास आरकुट पर राष्‍ट्र भक्ति से भरा एक संदेश के रूप में भारत का मानचित्र के रूप मे आया था किन्‍तु वह भारत का खडि़त मानचित्र था। अब इसे हम देश भाक्ति कहे या राष्‍ट्रीय शर्म ?

सर्वप्रथम आज जरूरत है देश में जगरूक नागरिको की जो सही और गलत का फैसला कर सकें, अन्‍यथा हम भारत का खडि़त चेहरा हमेंशा एक दूसरे को फारवर्ड करते रहेगे। 

4 comments:

Suresh Chandra Gupta said...

मैं दिल्ली में रहता हूँ. आपको जागरूक नागरिकों की जरूरत है. दिल्ली आइये और ले जाइए. दिल्ली भरा पड़ा है जागरूक नागरिकों से.

'Yuva' said...

आपकी रचनाधर्मिता का कायल हूँ. कभी हमारे सामूहिक प्रयास 'युवा' को भी देखें और अपनी प्रतिक्रिया देकर हमें प्रोत्साहित करें !!

राज भाटिय़ा said...

इस देश मै जो ना हो वो ही कम, अब किस किस को रोये, कहा से लाये जागरुक नागरिक??? कोन पहल करना चाहता है, सभी को पडी है अपनी जेब की, चाहे वो कलर्क हो चपडासी हो, डा हो या मन्त्री
धन्यवाद

Tara Chandra Gupta "MEDIA GURU" said...

sahi bat kah rahe hai bhai. ye mutthi bhar log 2012 tak hindustan ko islamik desh banane ki bhool kar rahe hai.