21 January 2009

अल्‍लाह इ‍स्‍लामिक देशो से नाराज है इसलिये ज्‍यादा बच्‍चे भारत में पैदा कर रहे है

मुस्लिम सम्‍प्रदाय में अल्‍लाह को सर्वोपरि माना जाता है,और अल्‍लाह को सर्वोपरि माना भी जाना चाहिये। किन्‍तु अक्‍सर देखने में आता है कि मुस्लिम कठमुल्‍लाओं के चलते देश का मुसलमान पंथ भटकाव के रास्‍ते पर नज़र आता है। मुस्लिम सम्‍प्रदाय आज अपनी रूढियों को त्‍यागने को मुखर नही हो रहा है। इस्‍लाम में यह धारणा देखने में आती है कि दूसरे धर्म को मानने वाले मारे जाने योग्‍य होते है। भारत को माता कहने से अल्‍लाह नाराज हो जायेगे। इस्‍लाम में इस प्रकार की धारण उपाजने वाले कठमुल्‍ले ये भूल जाते है। अल्‍लाह ने भारत में मुसलमानों को इसलिये जन्‍म दिया है ताकि समस्‍त भारतीयों द्वारा अपने जाने वाले रीति रिवाजों को को अपनाओं न कि देश की छाती पर मूँग दलने का काम करें।

अगर अल्‍लाह को मुसलमानों के द्वारा भारत को माता कहे जाने पर अपत्ति होती। अल्‍लाह शायद ही किसी मुस्लिम को भारत में जन्‍म देते। क्‍योकि भारत में जन्‍म लेने पर भारत को माता कहना पढ़ जाता है। तो अल्‍लाह मुस्लिमो को सिर्फ मुस्लिमों को मुस्लिम देशो में ही जन्‍म देते, पर अल्‍लाह ने ऐसा नही किया। आज भारत विश्‍व का सबसे बड़ा अल्‍लाह की इबादत करने वाला देश है, तो अल्‍लाह को किस लिये भारत को माता कहने पर आपत्ति होगी। आज मुस्लिमो पर जितने कड़े कानून इस्‍लामिक देशो में है शायद उतना भारत में नही। अब कठ मुल्‍ले यही कहेगे कि अल्‍लाह इ‍स्‍लामिक देशो से नाराज है इसलिये ज्‍यादा बच्‍चे भारत में पैदा कर रहे है।

2 comments:

राज भाटिय़ा said...

जिन्हे देश प्यारा है वो जरुर कहेगे, क्यो कि हम सब को धर्म से ज्यादा देश से प्यार होना चाहिये, अगर हमारा देश ही नही बचेगा तो धर्म अकेला कया करेगा, अगर हाल देखना है तो उन मुसलमानो को देखो जो भारत छोड कर पाकिस्तान चलेगये थे, ओर अब तक वो वहां धक्के ही खा रहे है,इस लिये देश से पहले प्यार, ओर जन्म भूमि मां होती है , फ़िर इसे मां कहने मै केसी शर्म
धन्यवाद

Tara Chandra Gupta "MEDIA GURU" said...

bilkul sahi kah rahe hain. aaj sabhi islamik desho me musalmano ki gati ho rahi hai. sabse jyada surakshit mushalman bharat me hai. iseme desh ke prti achhi bhavna paida karne ke liye mullaon ko aage aana chahiye.