01 March 2008

पिछली पोस्‍ट एग्रीगेटरों के शिकंजे से बच निकली

इस ब्‍लाग की पिछली पोस्‍ट एग्रीगेटरों के शिकंजे से बच निकली, ऐसा कैसे हुआ मुझे पता नही चल सका। यह देखना है कि यह किस कारण हुआ मुझे पता नही चल पाया। यह देखने के लिये यह पोस्‍ट कर रहा हूँ।

पिछली पोस्‍ट का लिंक निम्‍न है - भारत विकासशील देश है या नहीं?

1 comment:

Dr. MITTAL SHRI KRISHAN said...

Neeshu tum aage badho
Desh tumhare saath hai

Sanskruti ko jeevit karne ka
tumhara yeh achha pryas hai

Jab bhi mujhe mauka milega
Mai bhi kuchh jarur likhunga
Aisa tumhe mera vishwash hai