24 February 2009

सम्पतिशाली बनने का देवी उपाय

श्री विश्वसार तन्त्र नामक ग्रन्थ में लिखा है कि भौमवती अमावस्या को आधी रात में जब चन्द्रमा शतभिषा नक्षत्र पर हो उस समय जो मनुष्य श्री दुर्गाष्टोतरशतनाम स्तोत्र को लिखकर उसका पाठ करता है, वो सम्पतिशाली होता है।यही बात श्री गीताप्रेस गोरखपुर की दुर्गा सप्तशती के पेज १२ पर भी लिखी है।
में बहुत सालों से इस मुहुर्त को ढूंढ रहा था। पर अमावस्या होती तो भौमवती अमावस्या नहीं होती थी। भौमवती अमावस्या होती तो चन्द्रमा शतभिषा नक्षत्र पर नहीं होता था।

परन्तु अब दिनांक 24.02.2009 मंगलवार की जो अमावस्या है वो भौमवती अमावस्या है तथा चन्द्रमा भी शतभिषा नक्षत्र पर है। अतः इस दिन आधी रात में श्री दुर्गाष्टोतरशतनाम स्तोत्र को लिखकर उसका पाठ करें। यह स्तोत्र श्री गीताप्रेस गोरखपुर की दुर्गा सप्तशती के पेज ८-१२ पर दिया है या निम्न लिन्क से दुर्गा सप्तशती डाउनलोड कर लेवें।


मूल लेखक : MAHESH CHANDER KAUSHIK

5 comments:

महेश चन्द्र कौशिक (डुगडुगी) said...

प्रणाम, में इस लेख के प्रकाशन के लिए महाशक्ति समूह का आभारी हुं।

राज भाटिय़ा said...

धन्यवाद,

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

बहुत बढ़िया जानकारी दी है आभार.

arun prakash said...

chaliye sampatishali banane ke liye maata ki aaradhana karatein hai

नारदमुनि said...

jankari ke liye thanks. fir milengen narayan narayan