19 May 2009

डूबेजी

डूबेजी: की नज़र में वाकई वे सभी घटनाएं हैं जो कल घट सकतीं हैं । पेशे से मेडिकल प्रतिनिधि की सोच में कोई ग़लत फहमीं नहीं होती । जबलपुर नई-दुनिया के कार्टूनिष्ट राजेश दुबे अब सिर्फ़ कार्टूनिष्ट हैं मेडिकल-रिप्रैज़ेंटेटिव नहीं । समय और वादे के पक्के दुबे जी सच सहज और सौम्य हैं मसखरे होते हैं उनके कार्टून

6 comments:

संगीता पुरी said...

बहुत बढिया .. सही कहा है।

Udan Tashtari said...

डूबे जी प्रतिभावान व्यक्ति हैं, हम तो उनके कायल हैं.

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

shukriya
sameer ji sangeetaa ji

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

shukriya
sameer ji sangeetaa ji

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

shukriya
sameer ji sangeetaa ji

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

shukriya
sameer ji sangeetaa ji